Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

डाल-डाल पर फल निकलेगा

डाल-डाल पर फल निकलेगा
आज नहीं तो कल निकलेगा,
बदलेगा जब वक्त तुम्हारा
हर विपदा का हल निकालेगा ।
a m prahari

1 Like · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तलाशती रहती हैं
तलाशती रहती हैं
हिमांशु Kulshrestha
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
वो भी थी क्या मजे की ज़िंदगी, जो सफ़र में गुजर चले,
वो भी थी क्या मजे की ज़िंदगी, जो सफ़र में गुजर चले,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2656.*पूर्णिका*
2656.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
वक़्त
वक़्त
Dinesh Kumar Gangwar
ज़िंदगी तेरा
ज़िंदगी तेरा
Dr fauzia Naseem shad
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
#मज़दूर
#मज़दूर
Dr. Priya Gupta
■ #गीत :-
■ #गीत :-
*प्रणय प्रभात*
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
Fight
Fight
AJAY AMITABH SUMAN
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
रूबरू।
रूबरू।
Taj Mohammad
"जिन्दगी में"
Dr. Kishan tandon kranti
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
Loading...