Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 2 min read

डाकिया डाक लाया

शाम को बाजार घुमते हुए मेरी नज़र अकस्मात इस लेटर बाॅक्स पर पड़ी। स्वत: स्फूर्त्त सड़क की बायीं ओर गाड़ी लगा कर मैं चुल्हे के रुप में सेवा दे रहे लेटर बाॅक्स के करीब गया। एक साथ मस्तिष्क में कई तार झंकृत हो गये और सिनेमा के रील की तरह घटनाक्रम सामने से गुजरने लगे। बाल मन से लेकर अब तक का एक अपनापन का नाता इस लेटर बाॅक्स से और उसकी इस भयानक दुर्गति को देख कर मन तो खौल गया। बचपन में घर से पत्र कभी इस बक्से में गिराने के लिए इस कड़ी हिदायत के साथ मिलता था कि पत्र गिराते ही ढ़क की आवाज अवश्य सुन लें। हम पंछी उन्मुक्त गगन के वाली बचपना के कारण ढ़क वाली बात भूल जाते और घर लौटते वक्त अचानक याद आता। फिर भय से रिवर्स गियर लगा कर पोस्ट ऑफिस पहुॅंच जाते। दिमाग काम नहीं करता वहीं मॅंडराते रहते। अचानक पोस्ट मास्टर चाचा की नजर पड़ती तो पूछ बैठते कि कुछ खो गया। शरमाते हुए उन्हें जब बताते तो वे हॅंसते हुए बोलते कि निश्चिंत होकर जाओ चिट्ठी हम पहुॅंचा देंगे। डाकिया द्वारा पोस्टकार्ड, अंतर्देशीय,लिफाफा के रुप में पाये गये पत्र को पाने के बाद परमानन्द की अनुभूति के बारे में उस समय के लोग ही सही सही बता सकते। उस समय पत्र लेखन ही संचार का शक्तिशाली माध्यम हुआ करता था। मोबाईल और इंटरनेट क्रान्ति ने इतनी चालाकी से इस लेटर बाॅक्स से लोगों का मोहभंग किया कि साॅंस लेने लायक नहीं छोड़ा। पोस्ट ऑफिस भी अब नये अवतार में अवतरित होकर मार्केट में अपना पैठ बनाये रखने के लिए तरह तरह के प्रयोग को अपना रहा है पर उनका क्या जिनकी गहरी यादें इनसे कभी जुड़ी हुई थी और एक अपनत्व का नाता था कभी।

1 Like · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
सिकन्दर बन कर क्या करना
सिकन्दर बन कर क्या करना
Satish Srijan
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
पूर्वार्थ
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
दान किसे
दान किसे
Sanjay ' शून्य'
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
*भारत*
*भारत*
सुनीलानंद महंत
*नुक्कड़ की चाय*
*नुक्कड़ की चाय*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
इबादत आपकी
इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
दुष्यन्त 'बाबा'
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
" आज चाँदनी मुस्काई "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
#निर्विवाद...
#निर्विवाद...
*Author प्रणय प्रभात*
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कण-कण में श्रीराम हैं, रोम-रोम में राम ।
कण-कण में श्रीराम हैं, रोम-रोम में राम ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मजदूर की मजबूरियाँ ,
मजदूर की मजबूरियाँ ,
sushil sarna
याद हमारी बहुत आयेगी कल को
याद हमारी बहुत आयेगी कल को
gurudeenverma198
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
Loading...