Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

डर

शीर्षक – डर GSAA
*********
डर तो हमारे मन की सोच हैं।
हम सब के साथ डर रहता हैं।
हां सच डर समझे और सोचते हैं।
आज हम अपने जीवन की सोचते हैं।
डर और हम जिंदगी की सोच रहती हैं।
प्रेम मोहब्बत और इश्क में भी डर होता हैं।
सच तो मन और विचारों के साथ रहता हैं।
हमारे मन में डर की वजह तो हम होते हैं।
बस समय और समाज के साथ-साथ रहते हैं।
न सोचो कुछ तेरा मेरा रिश्ता शब्दों में कहते हैं।
बस डर न मन भावों में हम तुम संग रहते हैं।
डर ही तो हमारी जिंदगी में सच रहता हैं।
आओ मिलकर हम डर भगा कर जीते हैं।
मन भावों में हम खुद को मजबूत बनाते हैं।
********************************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र in

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख्वाब
ख्वाब
Dinesh Kumar Gangwar
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
sudhir kumar
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
Hey....!!
Hey....!!
पूर्वार्थ
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
भगिनि निवेदिता
भगिनि निवेदिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
◆ मेरे संस्मरण...
◆ मेरे संस्मरण...
*Author प्रणय प्रभात*
यह आखिरी खत है हमारा
यह आखिरी खत है हमारा
gurudeenverma198
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
Dr MusafiR BaithA
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
*होली के रंग ,हाथी दादा के संग*
*होली के रंग ,हाथी दादा के संग*
Ravi Prakash
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
2943.*पूर्णिका*
2943.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाय
चाय
Rajeev Dutta
Loading...