डर लगता है

डर लगता है इन रातों से, इन रातों से डर लगता है,
कब कौन कहाँ कैसे होगा, इन बातों से डर लगता है।

पलकों के सपनो को अपने अश्कों में बह जाने दो, इन सौंधी सौंधी आँखों के ख़्वाबों से डर लगता है।

वो शख़्स अभी जो गुजरा है, उसके पाँवों में अंगारे थे,
कैसे चलता जाऊ मैं, इन राहों से डर लगता है।

वो यार मुझे तो कहता है, और दिल की बातें छुपा के रखता,
तेरे दिल में दबे दबे उन राज़ो से डर लगता है।

‘दवे’ दीवानों की दुनिया में कैसे नफ़रत ज़िंदा है,
नफ़रत की ज्वाला उगल रही उन आँखों से डर लगता है।

पल पल रूप बदलती दुनिया, लोगो के कितने चेहरे है,
खंजर से और लोग डरे, मुझे मीठी बातों से डर लगता है।

233 Views
You may also like:
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
मुक्तक
Ranjeet Kumar
मनमीत मेरे
Dr.sima
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
अख़बार
आकाश महेशपुरी
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
पिता
Deepali Kalra
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक संकल्प
Aditya Prakash
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
उम्मीद से भरा
Dr.sima
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
इश्क था मेरा।
Taj Mohammad
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Saraswati Bajpai
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
Loading...