Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2016 · 1 min read

डर लगता है

डर लगता है इन रातों से, इन रातों से डर लगता है,
कब कौन कहाँ कैसे होगा, इन बातों से डर लगता है।

पलकों के सपनो को अपने अश्कों में बह जाने दो, इन सौंधी सौंधी आँखों के ख़्वाबों से डर लगता है।

वो शख़्स अभी जो गुजरा है, उसके पाँवों में अंगारे थे,
कैसे चलता जाऊ मैं, इन राहों से डर लगता है।

वो यार मुझे तो कहता है, और दिल की बातें छुपा के रखता,
तेरे दिल में दबे दबे उन राज़ो से डर लगता है।

‘दवे’ दीवानों की दुनिया में कैसे नफ़रत ज़िंदा है,
नफ़रत की ज्वाला उगल रही उन आँखों से डर लगता है।

पल पल रूप बदलती दुनिया, लोगो के कितने चेहरे है,
खंजर से और लोग डरे, मुझे मीठी बातों से डर लगता है।

490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शव शरीर
शव शरीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
सच्ची सहेली - कहानी
सच्ची सहेली - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एहसासे- नमी (कविता)
एहसासे- नमी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
पाप पंक पर बैठ कर ,
पाप पंक पर बैठ कर ,
sushil sarna
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
3189.*पूर्णिका*
3189.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये जो लोग दावे करते हैं न
ये जो लोग दावे करते हैं न
ruby kumari
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
Sonam Puneet Dubey
संस्कारों की रिक्तता
संस्कारों की रिक्तता
पूर्वार्थ
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
Indu Singh
कोई चाहे तो पता पाए, मेरे दिल का भी
कोई चाहे तो पता पाए, मेरे दिल का भी
Shweta Soni
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
*प्रणय प्रभात*
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
Sanjay ' शून्य'
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
मित्रता का बीज
मित्रता का बीज
लक्ष्मी सिंह
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
Loading...