Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

टॉम एंड जेरी

मुझको है कार्टून में, जेरी बहुत पसंद।
सोच रही हूँ आज मैं, लिख दूँ दोहा छंद।।

जेरी छोटा सा मगर, बहुत बड़ा शैतान।
टाँगे खींचे टॉम की,पर बनता नादान।
एक दूसरे का सदा, जीना करे हराम-
जानी दुश्मन हैं मगर, इक दूजे के जान।

दाँत कटी ये दोस्ती,है रसना गुलकंद।
मुझको है कार्टून में, जेरी बहुत पसंद। ।

भागम-भागी में सदा, जेरी जाता जीत।
हार-जीत देखो नहीं, देखो उनकी प्रीत।
टॉम बिना जेरी नहीं, जेरी बिन न टॉम-
झगड़ा करते वे मगर, गाते मिलकर गीत।

सभी हरकते अटपटी ,कभी न करता बंद।
मुझको है कार्टून में, जेरी बहुत पसंद।

टॉम एंड जेरी कहो,दोनों दोस्त कमाल।
इन दोनों की दोस्ती,जग में बनी मिशाल।
दोनों की चालाकियाँ, लगती है दिलचस्प,
छेड़छाड़ शैतानियाँ, दौनो करे धमाल।

लोट-पोट हँसकर हुए, पाये अति आनंद।
मुझको है कार्टून में,जेरी बहुत पसंद।
वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
पूर्वार्थ
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
Shweta Soni
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुझको चाहिए एक वही
मुझको चाहिए एक वही
Keshav kishor Kumar
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
Bodhisatva kastooriya
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
जनाब बस इसी बात का तो गम है कि वक्त बहुत कम है
जनाब बस इसी बात का तो गम है कि वक्त बहुत कम है
Paras Mishra
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
कट रही हैं दिन तेरे बिन
कट रही हैं दिन तेरे बिन
Shakil Alam
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
दिल में जो आता है।
दिल में जो आता है।
Taj Mohammad
"वक्त के पाँव में"
Dr. Kishan tandon kranti
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...