Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 2 min read

टैडी बीयर

यहाॅं फरवरी आगमन के साथ ही, प्रेम के पंछी चहचहाने लगते हैं।
प्रेम इस संसार का अनमोल रत्न, तथ्य संसार को बताने लगते हैं।
चॉकलेट दिल की मिठास बने, गुलाब दिलों का माॅंझा हो जाता है।
यूॅं टैडी बीयर रूप में आते ही, प्रेम मूर्तावस्था में साझा हो जाता है।

हो प्रेम ईश्वरीय इच्छा का इशारा, जिसमें हर बात निराली होती है।
प्रेमी जीवन में तो अधिकत्तर, दिन को होली, रात दीवाली होती है।
अपनी हीर की मुस्कान के लिए, हर प्रेमी पल में राॅंझा हो जाता है।
यूॅं टैडी बीयर रूप में आते ही, प्रेम मूर्तावस्था में साझा हो जाता है।

एक विशालकाय टैडी बीयर ही, यहाॅं प्रेमिका के दिल को भाता है।
इसलिए वैलेंटाइन डे के लिए, प्रेमी इसे उपहार स्वरूप में लाता है।
प्रेम सीमा लाँघता है उन्माद, हर उपहार नशीला गाॅंजा हो जाता है।
यूॅं टैडी बीयर रूप में आते ही, प्रेम मूर्तावस्था में साझा हो जाता है।

प्रेम प्रतिज्ञा उठाते ही, प्रेमी प्रेमिका के प्रति समर्पित होना चाहिए।
न विषाद, न अवसाद, न विवाद, बस संतोष अर्जित होना चाहिए।
पुराने प्रेम की बातें याद करते ही, हर दृश्य पुनः ताज़ा हो जाता है।
यूॅं टैडी बीयर रूप में आते ही, प्रेम मूर्तावस्था में साझा हो जाता है।

इस प्रेम के सार्थक होते ही, सब प्रेमियों का हृदय बोलने लगता है।
मन भी खुलकर बातें करते हुए, अपने सारे राज़ खोलने लगता है।
जिससे सारी गलियाॅं गूॅंजती रहें, प्रेम प्रसंग एक बाजा हो जाता है।
यूॅं टैडी बीयर रूप में आते ही, प्रेम मूर्तावस्था में साझा हो जाता है।

सही और गलत की पैरवी से बचें, प्रेमी युगल वक़ालत नहीं करते।
इश्क़ में फैसला चाहे कुछ भी हो, प्रेमी कभी शिकायत नहीं करते।
हर दिन खुशी में उपहार बाॅंटे, मुफ़लिस प्रेमी भी राजा हो जाता है।
यूॅं टैडी बीयर रूप में आते ही, प्रेम मूर्तावस्था में साझा हो जाता है।

2 Likes · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
आर.एस. 'प्रीतम'
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
■
■ "डमी" मतलब वोट काटने के लिए खरीद कर खड़े किए गए अपात्र व अय
*प्रणय प्रभात*
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
"तेरा साथ है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
What Was in Me?
What Was in Me?
Bindesh kumar jha
कोशिश करना छोड़ो मत,
कोशिश करना छोड़ो मत,
Ranjeet kumar patre
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
"" *अहसास तेरा* ""
सुनीलानंद महंत
*चल रे साथी यू॰पी की सैर कर आयें*🍂
*चल रे साथी यू॰पी की सैर कर आयें*🍂
Dr. Vaishali Verma
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
समसामायिक दोहे
समसामायिक दोहे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
याद आती है
याद आती है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
स्थापित भय अभिशाप
स्थापित भय अभिशाप
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
तेरा ग़म
तेरा ग़म
Dipak Kumar "Girja"
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...