Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

टूट गई बेड़ियाँ

टूट गयी यूँ बेड़ियाँ सारी
आये धरा पे कृष्ण कन्हाई
वासुदेव कान्हा को छुपाये
यमुना विकराल रूप दिखाये

देवकी वसुदेव भय से कँपते
कारागार में थमते छुपते
दुष्ट कंस ने जब ये जाना
मृत्यु भय था उसने माना

चिरनिद्रा में सब लीन हुए
माया के यूँ आधीन हुए
नियति ने अजब खेल दिखाया
मुस्कुराते कृष्णा धरा आया

चले वासुदेव टोकरी धरे
लल्ला को थामे निकल पड़े
पहुँच गये तब नंद के द्वारे
कान्हा यशोदा के दुलारे

लीलाधर ने जननी पाई
देवकी दूजी यशोदा माई
पहुँच गए यूँ गोकुल चलते
रह गया वो कंस हाथ मलते

हार तनिक न वसुदेव माने
चलते रहे लल्ला को थामे
बरखा,तूफां से न घबराये
छोड़ मथुरा गोकुल आये

काली अँधियारी रात्रि ढली
जगमग उजियारा दिखलाया
जग का उद्धार करने कृष्णा
ले अवतार धरती पर आया।।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
Vishal babu (vishu)
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
"सन्देश"
Dr. Kishan tandon kranti
आकुल बसंत!
आकुल बसंत!
Neelam Sharma
सच की ताक़त
सच की ताक़त
Shekhar Chandra Mitra
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
*हिम्मत जिंदगी की*
*हिम्मत जिंदगी की*
Naushaba Suriya
हरित - वसुंधरा।
हरित - वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
*छह माह (बाल कविता)*
*छह माह (बाल कविता)*
Ravi Prakash
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
भारत का अतीत
भारत का अतीत
Anup kanheri
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...