Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से,
टमाटर नही मेरा दिल है,
प्रियतम मेरे तुम मुझको लिखना,
क्या यह तुम्हारे काबिल है,
प्यार छिपा है टमाटर में इतना,
जितने धनिया में सोया,
चुम ही लेता हाथ तुम्हारा,
पास जो तुम मेरे होती,
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से,
टमाटर नही मेरा दिल है,
नींद तुम्हें तो आती होगी,
जो तुमने देखा टमाटर का सपना,
आँख खुली तो तन्हाई थी,
टमाटर हो न सका अपना,
महंगाई हम दूर करेंगे,
ले आओ तुम मेरी सरकार,
प्रीत लगाके भूल न जाना,
प्रीत तुम्हीं ने सिखलाई,
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से,
टमाटर नही मेरा दिल है,
टमाटर से मन भरता ही नहीं,
जब सस्ता हो तो चैन मिले,
महंगाई मेरे देश से दूर भागे,
कोई तो ऐसी रैन मिले,
टमाटर, अदरक और लहसुन,
कैसे हो सस्ता है कोई उपाय लिख दो,
उम्मीद लगाए बैठे हैं हम,
कब सस्ता होंगे यह लिख दो,
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से,
टमाटर नही मेरा दिल है…

201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पुस्तक
पुस्तक
Vedha Singh
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ  लोग घंटों  घंटों राम, कृष्ण
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ लोग घंटों घंटों राम, कृष्ण
ruby kumari
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पुरखों की याद🙏🙏
पुरखों की याद🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
1🌹सतत - सृजन🌹
1🌹सतत - सृजन🌹
Dr Shweta sood
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
💐प्रेम कौतुक-480💐
💐प्रेम कौतुक-480💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
gurudeenverma198
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
चुनावी साल में
चुनावी साल में
*Author प्रणय प्रभात*
बदलता भारत
बदलता भारत
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
आँख से अपनी अगर शर्म-ओ-हया पूछेगा
आँख से अपनी अगर शर्म-ओ-हया पूछेगा
Fuzail Sardhanvi
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
"अभिमान और सम्मान"
Dr. Kishan tandon kranti
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
पूर्वार्थ
Loading...