Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Sep 2016 · 3 min read

झौंपड़ पट्टी

महामारी की तरह फैले
झोंपडि़यों के मेले
हर शहर में इधर-उधर
जहाँँ-तहाँँ मैले कुचैले
दिन दूनी रात चौगुनी
बढ़ती रेलम पेलें
पैबन्‍द सरीखे यहाँँ
बढ़ रहे हैं इनके झमेले
एक नई संस्‍कृति
पनप रही है
वोटों की राजनीति
बन रही है
इनको नहीं च्‍युत किया जा सकता
इनको नहीं कोई
उपदेश दिया जा सकता
मानवाधिकार
बीच में आएगा
कानून गोते खाएगा
नेताओं की
सरगर्मियाँँ बढ़ेंगी
समितियाँँ बनेंगी
विकास रुकेंगे
पर इनके अधिकार
कम नहीं होंगे
सरकारी तंत्र परेशान है
आम जनता हैरान है
कहीं भूमाफिया
अतिक्रमण करते हैं
कहीं ये लोग
अतिक्रमण करते हैंं
ये भले ही कुपोषित हों
बड़े घरों के द्वार
इनके लिए खुलें हैं
इसलिए इनमें
बेकारी की
समस्‍या नगण्‍य है
पर इनका जलकुम्‍भी की तरह
पनपते रहना जघन्‍य है
आँँकड़ों में बढ़तेे
जा रहे हैं ये लोग
आँँकड़ों से ही चलाते हैं
ये बिजली पानी उद्योग
देख कर भी बंद हैं
आँँखें प्रशासन की
कोई नहीं करता दुस्‍साहस
इस दु:शासन की
पर्यावरण की बातें बेमानी
संक्रमण, अतिक्रमण ही
इनकी कहानी
गन्‍दगी में उड़ती दावतें
वाइन फ्लू, डैंगू, चिकनगुनिया
की
इनसे हैं अदावतें
परेशान ये नहीं
आम आदमी है
इनको शिक्षित करे
नहीं कोई अकादमी है
हर शहर एक
धारावी को जनमेगा
इर शहर इन्‍हें मिला कर
मेट्रो बनेगा
चेचक की तरह इनका
उन्‍मूलन जरूरी है
स्‍वाइन फ्लू की तरह
डिवाइन विस्‍फोट की
उम्‍मीद पूरी है
इनकी देशव्‍यापी यूनियन
एक नई जेहाद छेड़ेगी
राज्‍य में इनके
वोटिंग पोटेंशियल की
बात छेड़ेगी
हर ओर से अलग राज्‍य का
जन निनाद उठेगा
संसद में नया बिल पेश होगा
अंतत: झारखंड और
उत्‍तराखंड की तरह
झोंपड़खंड भी एक राज्‍य होगा
गन्‍दगी का यहाँँ
साम्राज्‍य होगा
हर राष्‍ट्र प्रमुख यहाँँ आएगा
वह विशेेष सम्‍मानित होगा
असली राम राज्‍य
यहाँँ पनपेगा
यहाँँ किसी के घर में
ताले नहीं लगेंगे
कबाड़ा यहाँँ का
उद्योग होगा
खिचड़ी यहाँँ का
राजभोग होगा
फटे पुराने कपड़े जूते
यहाँँ की राजपोशाक होगी
कुपोषित, खिचड़ी दाढ़ी
यहाँँ की पहचाान होगी
परिश्रमी हैं इसलिए
विदेश में नौकरी के लिए
प्रतिबन्‍ध नहीं होगा
यहाँँ यदि प्रतिबंधित होगी तो
पढ़ाई और सफाई
अन्‍य राज्‍यों, दे
शों से
कचरा, कबाड़ा
मुफ्त में आयात होगा
कचरे-कबाड़े से अगर
बने
स्‍वावलंबी तो
पनप सकते हैंं
कितने ही उद्योग
धीरे-धीरे बढ़ती
इनकी शक्त्‍िा से
पड़ौौसी राज्‍यों में
गाँँवों,शहरों को
कबाड़े में बदलने को
पनपेंगी आतंकवादी ताकतें
होंगे आतंकवादी हमले
फिर निनाद उठेगा
बिल संसद तक पहुँचेगा
फिर संविधान में
संशोधन होगा
डिवाइन की चर्चा और
समाशोधन होगा
बँटवारा होगा और अंतत:
और एक नया राष्‍ट्र पनपेगा
विश्‍व मानचित्र पर
‘झोंपड़ पट्टी’
भी राष्‍ट्र मान्‍यता देने में
आगे आयेंगे
कचरा और झोंपड़पट्टी
हर देश की समस्‍या है
गले लगायेंगे
इस समस्‍या में
सर्वोपरि एशिया है
अग्रणी कहलायेंगे
सभी देशों को
इस समस्‍या से राहत दिलाने
शांति और पर्यावरण के क्षेत्र में
विशिष्‍ट कार्य करने के लिए
कदाचित् नोबेल मिल जाये
देश को महाशक्त्‍िा बनने का
रास्‍ता मिल जाये
महामारी से जनसंख्‍या और
संस्‍कृतियाँँ मिट जाती थीं
उठ कर फिर सम्‍हलने में
सदियाँँ निकल जाती थीं
कोई राज्‍य या देश
इस तरह के आवासन से
ग्रति अमूमन होगा
शायद एक नये राष्‍ट्र बनने से ही
इस बीमारी और
समस्‍या का उन्‍मूलन होगा।।

Language: Hindi
232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इत्तिहाद
इत्तिहाद
Shyam Sundar Subramanian
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
Neelam Sharma
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
किताब का आखिरी पन्ना
किताब का आखिरी पन्ना
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
The_dk_poetry
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
सावन में तुम आओ पिया.............
सावन में तुम आओ पिया.............
Awadhesh Kumar Singh
💐अज्ञात के प्रति-29💐
💐अज्ञात के प्रति-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक़्त होता
वक़्त होता
Dr fauzia Naseem shad
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
✍️दोस्ती ✍️
✍️दोस्ती ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
मैयत
मैयत
शायर देव मेहरानियां
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
■ ढीठ कहीं के ..
■ ढीठ कहीं के ..
*Author प्रणय प्रभात*
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
कवि रमेशराज
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दुनियां और जंग
दुनियां और जंग
सत्य कुमार प्रेमी
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
शेर
शेर
Monika Verma
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2949.*पूर्णिका*
2949.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
यही रात अंतिम यही रात भारी।
यही रात अंतिम यही रात भारी।
Kumar Kalhans
Loading...