Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

झौंपड़ पट्टी

महामारी की तरह फैले
झोंपडि़यों के मेले
हर शहर में इधर-उधर
जहाँँ-तहाँँ मैले कुचैले
दिन दूनी रात चौगुनी
बढ़ती रेलम पेलें
पैबन्‍द सरीखे यहाँँ
बढ़ रहे हैं इनके झमेले
एक नई संस्‍कृति
पनप रही है
वोटों की राजनीति
बन रही है
इनको नहीं च्‍युत किया जा सकता
इनको नहीं कोई
उपदेश दिया जा सकता
मानवाधिकार
बीच में आएगा
कानून गोते खाएगा
नेताओं की
सरगर्मियाँँ बढ़ेंगी
समितियाँँ बनेंगी
विकास रुकेंगे
पर इनके अधिकार
कम नहीं होंगे
सरकारी तंत्र परेशान है
आम जनता हैरान है
कहीं भूमाफिया
अतिक्रमण करते हैं
कहीं ये लोग
अतिक्रमण करते हैंं
ये भले ही कुपोषित हों
बड़े घरों के द्वार
इनके लिए खुलें हैं
इसलिए इनमें
बेकारी की
समस्‍या नगण्‍य है
पर इनका जलकुम्‍भी की तरह
पनपते रहना जघन्‍य है
आँँकड़ों में बढ़तेे
जा रहे हैं ये लोग
आँँकड़ों से ही चलाते हैं
ये बिजली पानी उद्योग
देख कर भी बंद हैं
आँँखें प्रशासन की
कोई नहीं करता दुस्‍साहस
इस दु:शासन की
पर्यावरण की बातें बेमानी
संक्रमण, अतिक्रमण ही
इनकी कहानी
गन्‍दगी में उड़ती दावतें
वाइन फ्लू, डैंगू, चिकनगुनिया
की
इनसे हैं अदावतें
परेशान ये नहीं
आम आदमी है
इनको शिक्षित करे
नहीं कोई अकादमी है
हर शहर एक
धारावी को जनमेगा
इर शहर इन्‍हें मिला कर
मेट्रो बनेगा
चेचक की तरह इनका
उन्‍मूलन जरूरी है
स्‍वाइन फ्लू की तरह
डिवाइन विस्‍फोट की
उम्‍मीद पूरी है
इनकी देशव्‍यापी यूनियन
एक नई जेहाद छेड़ेगी
राज्‍य में इनके
वोटिंग पोटेंशियल की
बात छेड़ेगी
हर ओर से अलग राज्‍य का
जन निनाद उठेगा
संसद में नया बिल पेश होगा
अंतत: झारखंड और
उत्‍तराखंड की तरह
झोंपड़खंड भी एक राज्‍य होगा
गन्‍दगी का यहाँँ
साम्राज्‍य होगा
हर राष्‍ट्र प्रमुख यहाँँ आएगा
वह विशेेष सम्‍मानित होगा
असली राम राज्‍य
यहाँँ पनपेगा
यहाँँ किसी के घर में
ताले नहीं लगेंगे
कबाड़ा यहाँँ का
उद्योग होगा
खिचड़ी यहाँँ का
राजभोग होगा
फटे पुराने कपड़े जूते
यहाँँ की राजपोशाक होगी
कुपोषित, खिचड़ी दाढ़ी
यहाँँ की पहचाान होगी
परिश्रमी हैं इसलिए
विदेश में नौकरी के लिए
प्रतिबन्‍ध नहीं होगा
यहाँँ यदि प्रतिबंधित होगी तो
पढ़ाई और सफाई
अन्‍य राज्‍यों, दे
शों से
कचरा, कबाड़ा
मुफ्त में आयात होगा
कचरे-कबाड़े से अगर
बने
स्‍वावलंबी तो
पनप सकते हैंं
कितने ही उद्योग
धीरे-धीरे बढ़ती
इनकी शक्त्‍िा से
पड़ौौसी राज्‍यों में
गाँँवों,शहरों को
कबाड़े में बदलने को
पनपेंगी आतंकवादी ताकतें
होंगे आतंकवादी हमले
फिर निनाद उठेगा
बिल संसद तक पहुँचेगा
फिर संविधान में
संशोधन होगा
डिवाइन की चर्चा और
समाशोधन होगा
बँटवारा होगा और अंतत:
और एक नया राष्‍ट्र पनपेगा
विश्‍व मानचित्र पर
‘झोंपड़ पट्टी’
भी राष्‍ट्र मान्‍यता देने में
आगे आयेंगे
कचरा और झोंपड़पट्टी
हर देश की समस्‍या है
गले लगायेंगे
इस समस्‍या में
सर्वोपरि एशिया है
अग्रणी कहलायेंगे
सभी देशों को
इस समस्‍या से राहत दिलाने
शांति और पर्यावरण के क्षेत्र में
विशिष्‍ट कार्य करने के लिए
कदाचित् नोबेल मिल जाये
देश को महाशक्त्‍िा बनने का
रास्‍ता मिल जाये
महामारी से जनसंख्‍या और
संस्‍कृतियाँँ मिट जाती थीं
उठ कर फिर सम्‍हलने में
सदियाँँ निकल जाती थीं
कोई राज्‍य या देश
इस तरह के आवासन से
ग्रति अमूमन होगा
शायद एक नये राष्‍ट्र बनने से ही
इस बीमारी और
समस्‍या का उन्‍मूलन होगा।।

125 Views
You may also like:
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
If we could be together again...
Abhineet Mittal
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
बाबू जी
Anoop Sonsi
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आदर्श पिता
Sahil
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
पिता
विजय कुमार 'विजय'
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Mamta Rani
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...