Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

“झाड़ू”

“झाड़ू”
अनेक गुणों की खान हूँ,
मैं स्वच्छता की पहचान हूँ।
घर से लेकर संसद तक,
गर्दिशें दूर करता तमाम हूँ।

1 Like · 1 Comment · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
** हद हो गई  तेरे इंकार की **
** हद हो गई तेरे इंकार की **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
जो हुआ वो गुज़रा कल था
जो हुआ वो गुज़रा कल था
Atul "Krishn"
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
शैक्षिक विकास
शैक्षिक विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
Ranjeet kumar patre
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
"लिहाज"
Dr. Kishan tandon kranti
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
Pramila sultan
मोहब्बत का पहला एहसास
मोहब्बत का पहला एहसास
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
विधा - गीत
विधा - गीत
Harminder Kaur
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
शेखर सिंह
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
सत्य कुमार प्रेमी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
Loading...