Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2023 · 1 min read

झकझोरती दरिंदगी

झकझोरती दरिंदगी

नारी का सम्मान कर रहा है ह्रदय-विदारक चीत्कार,
हाल ही में हुआ है हैवानियत का शर्मनाक व्यवहार।

जब स्वार्थ -भावना प्राथमिकता पाती है,
तब संवेदना मूक-दर्शक बन जाती है।

निर्लज्जता का नंगा नाच जब निडरता से हो रहा था,
नारी- अधिकारिता का रक्षक संयंत्र तब सो रहा था।

नारी अस्मिता पर होती परिचर्चा में उभर कर आता है यह सार ,
पूर्व में अनुचित हुआ है इसलिए आज काअनुचित भी हो स्वीकार।

हम गर्व से कहते हैं ” यत्र नार्यस्तु पूज्यंते, रमन्ते तत्र देवता ”
क्यों नहीं यह वाक्य शूल समान हमारे हृदयों को भेदता।

दल,धर्म या जाति के आधार पर क्यों सहन हो नारी का अपमान,
इस अधर्म से प्रभावित होती है हमारी संस्कृति की उच्च शान।

क्यों है मानवों का कानून दानवों के लिये, इसपर हो गंभीर विचार,
क्यों न दानवों से अविलम्ब छीना जाये उनके जीने का अधिकार।

डॉ हरविंदर सिंह बक्शी
22-7-2023

Language: Hindi
142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई हुनर खुद में देखो,
कोई हुनर खुद में देखो,
Satish Srijan
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-560💐
💐प्रेम कौतुक-560💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
चांदनी रात
चांदनी रात
Mahender Singh
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
Shubham Pandey (S P)
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
उमंग
उमंग
Akash Yadav
"इतनी ही जिन्दगी बची"
Dr. Kishan tandon kranti
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
चॉकलेट
चॉकलेट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
■ प्रणय का गीत-
■ प्रणय का गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
*अनगिनत किस्से-कहानी आम हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*अनगिनत किस्से-कहानी आम हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
बड्ड यत्न सँ हम
बड्ड यत्न सँ हम
DrLakshman Jha Parimal
2867.*पूर्णिका*
2867.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों को कभी दौलत की
रिश्तों को कभी दौलत की
rajeev ranjan
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
umesh mehra
श्री बिष्णु अवतार विश्व कर्मा
श्री बिष्णु अवतार विश्व कर्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नारी शक्ति..................
नारी शक्ति..................
Surya Barman
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
सौ सदियाँ
सौ सदियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
Loading...