Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

ज्योतिर्मय

#दिनांक:-11/11/2022
#शीर्षक:- ज्योतिर्मय

तम मिट जाए जिससे ऐसे दीप जलाए,
दीपदान कर भटके को नूतन राह दिखाएं।

स्वच्छता और स्वास्थ्य का पैगाम सुनाए,
हृदय विदारक रोगों से मुक्ति पाएं।

घर में तो हर साल उजाला करते हैं ,
क्यूँ ना अंधेरा किसी के मन से हटाए।

रामराज्य तो कलयुग में बस एक कल्पना,
समता के नूतन भाव भरें,
मन का मालिन्य मिटाएं।

दीपक से हम जलना सीखें,
जीवन को रंगीन सजाएं।

अपनेपन की ‘तारीफ़ की दवा बनाकर,
अस्पताल शरीर में सहयोग को ज्योतिर्मय बनाए।
(स्वरचित)

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम आएंगे
राम आएंगे
Neeraj Agarwal
रोटी की ख़ातिर जीना जी
रोटी की ख़ातिर जीना जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
" कभी नहीं साथ छोड़ेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
Sakhawat Jisan
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
Shweta Soni
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
Deepak Baweja
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
//एहसास//
//एहसास//
AVINASH (Avi...) MEHRA
*पतंग (बाल कविता)*
*पतंग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"तुम्हारी गली से होकर जब गुजरता हूं,
Aman Kumar Holy
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
एक अदद इंसान हूं
एक अदद इंसान हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
शेखर सिंह
संकल्प
संकल्प
Davina Amar Thakral
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
Yogendra Chaturwedi
गाए जा, अरी बुलबुल
गाए जा, अरी बुलबुल
Shekhar Chandra Mitra
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
Loading...