Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

ज्ञानमय

नहीं मोह-ग्रस्त बन।
चेत-सूर्य मस्त बन।
आत्मा को जानकर।
ज्ञान -प्रेम भक्त बन।

बोध की सु गोन है।
सहज और मौन है।
‘नायक’ वह ज्ञानमय।
कहीं से न पौन है।

पं बृजेश कुमार नायक

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*कभी पहाड़ों पर जाकर हिमपात न देखा क्या देखा (मुक्तक)*
*कभी पहाड़ों पर जाकर हिमपात न देखा क्या देखा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
श्री राम अयोध्या आए है
श्री राम अयोध्या आए है
जगदीश लववंशी
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऐसी थी बेख़्याली
ऐसी थी बेख़्याली
Dr fauzia Naseem shad
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
Rj Anand Prajapati
■ कड़ा सवाल ■
■ कड़ा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Raju Gajbhiye
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"आया मित्र करौंदा.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
Shyam Sundar Subramanian
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
Ranjeet kumar patre
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
पूर्वार्थ
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
हाथ पसारने का दिन ना आए
हाथ पसारने का दिन ना आए
Paras Nath Jha
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मानवता की चीखें
मानवता की चीखें
Shekhar Chandra Mitra
Loading...