Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

ज्ञान क्या है

#justareminderekabodhbalak
#drarunkumarshastriblogger
आयुर्वेद की स्नातकीय शिक्षा के पाठ्यक्रम में एक विषय है – पदार्थ विज्ञान – ये मात्र एक विषय नहीं है – जिस भी मनुष्य ने इस विषय को पूर्ण रूपेण समझ कर आत्म सात कर लिया मानो उसका जीवन सार्थक हुआ ।
इसी संदर्भ में पदार्थ विज्ञान की पुस्तक से एक अंश – इस अंश का आजकल के जीवन में दूरगामी प्रभाव है । मैं समझता हूँ आज नहीं तो कल हर किसी को इसका उपयोग करना पड़ेगा या प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से करता होगा लेकिन महसूस नहीं करता होगा की वो स्वयं कितना वयहारिक है । सच में ।
और वो अंश है – परामर्श लक्षण , हेत्वाभास व व्याप्ति लक्षण ।
ये प्रत्यक्ष लक्षण या प्रमाण क्या है , अक्षम अक्षम प्रति प्रत्यक्षम – अक्ष अर्थात इंद्रिय , प्रति अर्थात सामने व समीप , अर्थात आत्मा , मन , इंद्रियों के साथ विषयों का सन्निकर्ष या संबंध होने पर तदात्म , उस पदार्थ में जो बुद्धि – ज्ञान उत्पन्न होगा वही प्रत्यक्ष होगा प्रमाणित होगा और यही उस के होने का शाश्वत लक्षण होगा ।
ऐसा न्याय दर्शन में उल्लेखित है

Language: Hindi
Tag: लेख
386 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
अब फकत तेरा सहारा न सहारा कोई।
अब फकत तेरा सहारा न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
उठ जाओ भोर हुई...
उठ जाओ भोर हुई...
जगदीश लववंशी
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
Shakil Alam
रिश्ता
रिश्ता
Santosh Shrivastava
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
*तीर्थ नैमिषारण्य भ्रमण, दर्शन पावन कर आए (गीत)*
*तीर्थ नैमिषारण्य भ्रमण, दर्शन पावन कर आए (गीत)*
Ravi Prakash
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
मेरी नज़्म, शायरी,  ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
मेरी नज़्म, शायरी, ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
लालच
लालच
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदी
हिंदी
पंकज कुमार कर्ण
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
डी. के. निवातिया
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Phoolo ki wo shatir  kaliya
Phoolo ki wo shatir kaliya
Sakshi Tripathi
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इंसानो की इस भीड़ में
इंसानो की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
goutam shaw
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Thought
Thought
Jyoti Khari
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
Loading...