Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2017 · 2 min read

****ज्ञान के सागर से भर लो गागर****

* गागर ‘मस्तिष्क’ है कहलाता,*
***’हिंदी व्याकरण’***
**ज्ञान का सागर कहा है जाता**
<<<<>>>>

*** अध्यापिका हूँ बच्चों की परेशानी भांप जाती हूँ |
कहाँ उन्हें है आती परेशानी जल्दी
पहचान जाती हूँ |

***आज तक के अनुभव से है यह पाया |
कहाँ लगाएँ ‘कि’ और ‘की’ बच्चों को आज तक नहीं समझ आया |

***पहली से बारहवीं तक के छात्रों का है यह हाल |
पता नहीं है ‘कि’ और ‘की’ का सही स्थान |

***नीरू कहती मत होना बच्चों कभी परेशान |
‘कि’ और ‘की’ की स्थिति पहचानने में कभी मत खाना मात |

*** ‘कि’ से पहले आता है हमेशा क्रिया शब्द याद रखना यह बात |
‘की’ को हमेशा लगाना संज्ञा और सर्वनाम के बाद |

****** ‘कि’ *****

***’कि’ एक संयोजक शब्द है कहलाता |
जोड़ता दो वाक्य और वाक्यांशों को और अपना स्थान है बनाता |

***वाक्य बनाते समय बनता है अगर कोई प्रश्न |
वहाँ ‘कि’ लग जाता है |
मुख्य वाक्य को आश्रित वाक्य से जोड़ देता है,
और अपना स्थान बनाता है|

***पहले वाक्य के अंत में और दूसरे वाक्य के प्रारंभ में लग जाता है |
इसका प्रयोग विभाजन के लिए या के स्थान पर भी किया जाता है |

****** ‘की’******

***’की’ के बाद स्त्रीलिंग शब्द का प्रयोग किया जाता है |
संज्ञा और सर्वनाम का किसी से संबंध जोड़ना हो ,
तो वहाँ ‘की’ लग जाता है |

***दो शब्दों को जोड़ने और संबंध स्थापित करने का कार्य भी ‘की’ ही करता है |

****’ताले की चाबी खो गई’
उदाहरण से पूर्ण स्पष्ट हो जाता है |ताले और चाबी का संबंध ‘की’
लगाकर जोड़ा जाता है |

***अगर रखोगे हमेशा यह बातें याद कभी नहीं भूलोगे ‘कि’ और ‘की’ का सही स्थान |

***छात्रों कभी भी न होना निराश |
***’नीरू’ करेगी हमेशा सुगम
हिंदी व्याकरण का ज्ञान तुम्हारे लिए आसान |
कभी न भूलना ‘कि’ और ‘की’ का सही स्थान |
याद रखना और सुदृढ़ बनाना हिंदी व्याकरण का ज्ञान |

Language: Hindi
679 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*प्रणय प्रभात*
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
23/13.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/13.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लाड बिगाड़े लाडला ,
लाड बिगाड़े लाडला ,
sushil sarna
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
Suryakant Dwivedi
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
पूर्वार्थ
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
काश
काश
हिमांशु Kulshrestha
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
अब कौन सा रंग बचा साथी
अब कौन सा रंग बचा साथी
Dilip Kumar
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
नए साल की मुबारक
नए साल की मुबारक
भरत कुमार सोलंकी
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
शेखर सिंह
विश्व पटल से सदा सभी को एक दिवस
विश्व पटल से सदा सभी को एक दिवस
Ravi Prakash
परिवर्तन
परिवर्तन
लक्ष्मी सिंह
एहसास के रिश्तों में
एहसास के रिश्तों में
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
Loading...