Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 1 min read

जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।

जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी,
सपनों सी मुलाक़ातें, पलकों के परदों पर आने लगी।
ग़ैरों की भीड़ में, आवाज़ें तेरी गुनगुनाने लगी,
बेमक़सद सी मुस्कराहट, यूँ हीं लबों पे छाने लगी।
बारिश की ये बूँदें, सोये एहसासों को जगाने लगी,
पिघलते मोम सी, कुछ दीवारें ढह जाने लगी।
अँधेरी रात और चांदनी की बातें, अब सताने लगी,
जुगनुओं की मटरगश्ती से, राहें जगमगाने लगी।
ख़ामोश झरोखों से हो कर, खुशबुएँ तेरी आने लगी,
तन्हा इस मकां को, घर की झलक बताने लगी।
दर्द की सरगोशियां, सुकूं के चादर में सो जाने लगी,
टूटे शीशे के हर टुकड़े में, तेरे अक्स से मिलाने लगी।
दरख़्तों की छाँव, नासूर ज़ख्मों को सहलाने लगी,
तेरे ज़िक्र का मरहम, मेरे ज़हन पर लगाने लगी।
क़ायनात अपनी बेबसी के किस्से, फिर सुनाने लगी,
तुझे मुझसे चुराने की सजा, मुझे हीं दे जाने लगी।
सुबह की किरणें, बेहोशी की नींद से उठाने लगी,
रेत के उस क्षणभंगुर महल को, खारे समंदर में मिलाने लगी।

1 Like · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
Jyoti Khari
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कॉफ़ी की महक
कॉफ़ी की महक
shabina. Naaz
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
भगतसिंह की क़लम
भगतसिंह की क़लम
Shekhar Chandra Mitra
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किताब
किताब
Sûrëkhâ Rãthí
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
,,........,,
,,........,,
शेखर सिंह
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
“POLITICAL THINKING COULD BE ALSO A HOBBY”
“POLITICAL THINKING COULD BE ALSO A HOBBY”
DrLakshman Jha Parimal
सफ़र जिंदगी का (कविता)
सफ़र जिंदगी का (कविता)
Indu Singh
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
विजय कुमार नामदेव
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...