Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं

जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
कैसे समझाऊँ शजर कैसे ये फल देते हैं

ख़ुशबू होती है तो सीने से लगाए रखते
सूख जाएँ तो ये फूलों को मसल देते हैं

मैंने देखा है यहाँ रहते हुए दुनिया में
अपने रहबर ही यहाँ रस्ता बदल देते हैं

होता आया है मिरे साथ में ऐसा अक्सर
टूटते ख़्वाब ही नींदों में ख़लल देते हैं

तुमने बदले में दिया कुछ भी नहीं है मुझको
देने वाले तो मोहब्बत में महल देते हैं

कोई क्या ख़ाक भरोसा ही करे अपनो पर
अपने पैरों से ही अपनो को कुचल देते हैं
~अंसार एटवी

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजकल की स्त्रियां
आजकल की स्त्रियां
Abhijeet
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
Bidyadhar Mantry
3204.*पूर्णिका*
3204.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
आईना ने आज़ सच बोल दिया
आईना ने आज़ सच बोल दिया
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
आवारा पंछी / लवकुश यादव
आवारा पंछी / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
"रचो ऐसा इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
Shweta Soni
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
kavita
kavita
Rambali Mishra
बाबुल
बाबुल
Neeraj Agarwal
कवि 'घाघ' की कहावतें
कवि 'घाघ' की कहावतें
Indu Singh
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
,,........,,
,,........,,
शेखर सिंह
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
Kishore Nigam
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
दर जो आली-मकाम होता है
दर जो आली-मकाम होता है
Anis Shah
इश्क था तो शिकवा शिकायत थी,
इश्क था तो शिकवा शिकायत थी,
Befikr Lafz
कविता
कविता
Neelam Sharma
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...