Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*

जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)
—————————————-
(1)
जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं
चली जब बेटियाँ जाती हैं, तो फिर याद आती हैं
(2)
नए माहौल में जाने से, डरती हैं बहुत ज्यादा
विदा में बेटियॉं खुश भी हैं, ऑंसू भी बहाती हैं
(3)
किसी को मिल गई ससुराल, अच्छी या बुरी पाई
न जाने बेटियाँ किस्मत में, अपनी क्या लिखाती हैं
(4)
बड़ा मुश्किल है घर-माँ-बाप, सब कुछ छोड़ कर जाना
मगर यह बेटियाँ ही हैं, जो मुश्किल कर दिखाती हैं
(5)
क्षमा उनको नहीं मिलती, प्रलय के आखिरी दिन तक
जो सासें फूल जैसी अपनी, बहुओं को रुलाती हैं
(6)
कभी ससुराल से मैके में, रहने के लिए आओ
ये घर तुम‌को बुलाता है, तुम्हें गलियाँ बुलाती हैं
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
😟 आज की कुंडली :--
😟 आज की कुंडली :--
*Author प्रणय प्रभात*
संघर्ष
संघर्ष
Shyam Sundar Subramanian
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राम की धुन
राम की धुन
Ghanshyam Poddar
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ईश्वर की बनाई दुनिया में
ईश्वर की बनाई दुनिया में
Shweta Soni
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
Smriti Singh
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
Anil chobisa
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
स्वास्थ्य का महत्त्व
स्वास्थ्य का महत्त्व
Paras Nath Jha
रक्षाबंधन का त्यौहार
रक्षाबंधन का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सारी व्यंजन-पिटारी धरी रह गई (हिंदी गजल/गीतिका)
सारी व्यंजन-पिटारी धरी रह गई (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
"चांदनी के प्रेम में"
Dr. Kishan tandon kranti
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
VINOD CHAUHAN
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
सुबह को सुबह
सुबह को सुबह
rajeev ranjan
गरीब हैं लापरवाह नहीं
गरीब हैं लापरवाह नहीं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
Loading...