Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

“जुल्मो-सितम”

“जुल्मो-सितम”
ये कैसा जुल्मो-सितम है
दूर रह के भी तड़पा दिए,
लगता यूँ पास रहते तो
कत्लेआम हालात होते।

1 Like · 1 Comment · 28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दीया और बाती
दीया और बाती
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"सहारा"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
अरे ! मुझसे मत पूछ
अरे ! मुझसे मत पूछ
VINOD CHAUHAN
■ स्लो-गन बोले तो धीमी बंदूक। 😊
■ स्लो-गन बोले तो धीमी बंदूक। 😊
*प्रणय प्रभात*
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
भगतसिंह: एक जीनियस
भगतसिंह: एक जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
Manoj Mahato
Your Secret Admirer
Your Secret Admirer
Vedha Singh
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*कभी लगता है : तीन शेर*
*कभी लगता है : तीन शेर*
Ravi Prakash
23/217. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/217. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...