Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ

जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
मिलकर बस एक बार तुम्हें निहारना चाहता हूँ
लिपटकर!!! पहले खूब रोये थे तुम मुझसे
उन्हीं आशुओ को फ़िर से हथेली पर बिखेरना चाहता हूँ

The_dk_poetry

1 Like · 253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं आँखों से जो कह दूं,
मैं आँखों से जो कह दूं,
Swara Kumari arya
राह कठिन है राम महल की,
राह कठिन है राम महल की,
Satish Srijan
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
gurudeenverma198
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
Phool gufran
दस्तूर ए जिंदगी
दस्तूर ए जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
Shivam Sharma
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
हम
हम
Shriyansh Gupta
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पापा
पापा
Kanchan Khanna
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
मुक्तक - वक़्त
मुक्तक - वक़्त
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
शायद आकर चले गए तुम
शायद आकर चले गए तुम
Ajay Kumar Vimal
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बदल डाला मुझको
बदल डाला मुझको
Dr fauzia Naseem shad
"आतिशे-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...