Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

जीवन

शीर्षक – जीवन
**********************
सच तो यही जीवन लगता हैं। ईश्वर और मानव समाज जीवन कहता है। संसारिक मोह-माया आकर्षण ही होता हैं। जीवन में माया और काया संग होती हैं। बस हम सभी जानते जीवन के सच है। जीवन बस एक उम्मीद और आशाएं हैं। सच तो जीवन अकेले ही आना जाना हैं। बस न सोच कल की रात आज रहती हैं। जीवन में उम्मीद हम सुबह की रखतें हैं। हकीकत और सच हम आपसे कहते हैं।
रंगमंच पर हम सभी बस अहम भूमिका निभाते हैं।
जीवन और जिंदगी हम सभी समझते हैं।
**************************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ सनातन विचार...
■ सनातन विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
होली
होली
नूरफातिमा खातून नूरी
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
Raju Gajbhiye
कठपुतली की क्या औकात
कठपुतली की क्या औकात
Satish Srijan
अनकही बातों का सिलसिला शुरू करें
अनकही बातों का सिलसिला शुरू करें
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
Bhupendra Rawat
2735. *पूर्णिका*
2735. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-512💐
💐प्रेम कौतुक-512💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Ankita Patel
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मिमियाने की आवाज
मिमियाने की आवाज
Dr Nisha nandini Bhartiya
ये धोखेबाज लोग
ये धोखेबाज लोग
gurudeenverma198
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
Loading...