Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

जीवन

कैसा है यह जीवन,
कितने है यहाँ बंधन,
उलझे है यहाँ रिश्ते,
सुख चैन नहीं सस्ते,
क्यों बढ़ती है धड़कन,
कितनी है अब अनबन,
पग पग पर है संकट,
हर पहलू बनता विकट,
मन में भरी चंचलता,
तन में है शीतलता,
कब आएगी ख़ुशी की लहर,
बीत चुका बड़ा ही पहर,
फिर भी छाया है कोहरा,
उनसे रिश्ता है बड़ा ही गहरा,
धुंधली यादों में है एक चेहरा,
।।।।जेपीएल।।।।

Language: Hindi
455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
3298.*पूर्णिका*
3298.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
क्या देखा
क्या देखा
Ajay Mishra
बिना आमन्त्रण के
बिना आमन्त्रण के
gurudeenverma198
सनम
सनम
Satish Srijan
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अंधेरा कभी प्रकाश को नष्ट नहीं करता
अंधेरा कभी प्रकाश को नष्ट नहीं करता
हिमांशु Kulshrestha
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
आस भरी आँखें , रोज की तरह ही
आस भरी आँखें , रोज की तरह ही
Atul "Krishn"
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
आप नौसेखिए ही रहेंगे
आप नौसेखिए ही रहेंगे
Lakhan Yadav
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
आर.एस. 'प्रीतम'
जिंदगी तूने  ख्वाब दिखाकर
जिंदगी तूने ख्वाब दिखाकर
goutam shaw
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
सोनू की चतुराई
सोनू की चतुराई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
SURYA PRAKASH SHARMA
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
Lokesh Sharma
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
#बधाई
#बधाई
*प्रणय प्रभात*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...