Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

” जीवन है गतिमान “

गीत

झुक गए तन मन दोनों भैया ,
झुके वही मतिमान !
दो पल का ठहराव भले दे ,
जीवन है गतिमान !!

बचपन में झुकना सीखा था ,
खूब नवाये शीश !
तरुणाई की ओर बढ़े तो ,
फिर जाना क्या ईश !
शिक्षा के सोपान चढ़े तो ,
पाया अपना मान !!

उपलब्धि की ओर बढ़े तो ,
झुकते देखे माथ !
अपने ही क्या और पराये ,
देने आए साथ !
तना रहा मस्तक सीना भी ,
पाए जब यशगान !!

सच को भी हम रहे नकारे ,
बदल गए जो ढंग !
ज्यों गिरगिट को देख बदलता ,
गिरगिट अपना रंग !
गिरता है चरित्र नीचे तब ,
बढ़ता है अभिमान !!

कस बल काया के ढीले हैं ,
बदला बदला दौर !
अपने भी अब सुने न अपनी ,
बदलें इत उत ठौर !
सुमिरन , चिंतन , मनन ,नमन है ,
बन ले जरा सुजान !!

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्य प्रदेश )

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
"चढ़ती उमर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
"You’re going to realize it one day—that happiness was never
पूर्वार्थ
■ प्रणय_गीत:-
■ प्रणय_गीत:-
*प्रणय प्रभात*
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
2578.पूर्णिका
2578.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
Sonam Puneet Dubey
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू  हुआ,
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
BUTTERFLIES
BUTTERFLIES
Dhriti Mishra
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
माँ..
माँ..
Shweta Soni
*जैन पब्लिक लाइब्रेरी, रामपुर*
*जैन पब्लिक लाइब्रेरी, रामपुर*
Ravi Prakash
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
Neeraj Agarwal
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गरीब और बुलडोजर
गरीब और बुलडोजर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ना होंगे परस्त हौसले मेरे,
ना होंगे परस्त हौसले मेरे,
Sunil Maheshwari
Loading...