Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2023 · 1 min read

जीवन के बसंत

खींचतान कर जैसे तैसे ले आया हूं
मैं जीवन के बसंत जी आया हूं
सबसे मधुर थे बचपन के बसंत
बिना चिन्ता के ओर किए बिना जतन
पा मैं सब कुछ लेता था
हां जिद में थोड़ा रो लेता था
फिर थोड़े तीक्ष्ण बसंत की कहानी आती है
मुझ पर जवानी छाती है
प्रेम में पागलपन छाता है
प्रेयसी के खातिर वो बसंत लड जाता है
फिर आता है जिम्मेदारी का बसंत
एक अच्छा खासा ओर लम्बा बसंत
घर की जिम्मेदारी सर पर आती है
धीरे धीरे मुझ समझ आती है
11-20 ओर फिर 20 से 30 का बसंत
कहीं खो जाता है
मुझ में एक पिता एक पति का भाव आता है
30-40 का वसंत मेहनत ले जाता है
40-50 का वसंत बच्चों की शादी
की चिन्ता ले जाता है
50 के बाद कहीं मुझ को
मैं मिल पाता हूं
अपने जीवनसाथी के कांधे पर
अपना सर रख जीवन के बसंत गिना करता हूं
उसके साथ ही 50-60 की कहानी होती है
जीवन तब ओर मधुर हो जाता है
सारे वसंत एक तरह ओर जीवन कहीं खो जाता है
60-70 तक खाट पकड़ लेते हैं
धीरे धीरे हम अन्तिम की ओर होते हैं
एक दिन सारे बसंत का अन्त हो जाता है
जीवन का खेल खत्म हो जाता है
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)

Language: Hindi
2 Likes · 177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
दर्पण दिखाना नहीं है
दर्पण दिखाना नहीं है
surenderpal vaidya
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
*सही सलामत हाथ हमारे, सही सलामत पैर हैं 【मुक्तक】*
*सही सलामत हाथ हमारे, सही सलामत पैर हैं 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
‘बेटी की विदाई’
‘बेटी की विदाई’
पंकज कुमार कर्ण
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
Ankita Patel
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
पिताजी का आशीर्वाद है।
पिताजी का आशीर्वाद है।
Kuldeep mishra (KD)
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
“ लिफाफे का दर्द ”
“ लिफाफे का दर्द ”
DrLakshman Jha Parimal
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
Loading...