Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

जीवन के बुझे हुए चिराग़…!!!

नादां उम्र में कर बैठे हम एक गलती…
कुछ इस कदर बुझे फिर खुशियों के चिराग़,
न ही मौत से रूबरू हुए न ही बची जीवन की हस्ती …
नादां उम्र में कर बैठे हम एक गलती।
ये जीवन की शाख उस मुसाहिब के बिना अधूरी है…
उल्फ़त है और रहेगी तुम्हीं से ,
ये जान लो तुम्हारा ये जानना ज़रूरी है।
हमेशा के लिए खो गयी लबों पर से तबस्सुम…
खुदा की इनायत होगी,
एक नज़र भर दिख जाओ अगर तुम।
अंतिम सांसों तक रहेगी पीड़ा- ए- फ़ुर्क़त…
दुआ करते हैं रब से,
दो दिलों में न हो कभी कोई अदावत।
ये प्रेम की हिकायत भी याद रखेंगे…
न भूलेंगे, न ही तुमसे कोई शिकवा करेंगे।
हम इतने ज़ार ज़ार हैं…
संग फ़कत अश्कों के सैलाब हैं,
अभी तलक भी वो ही आफाक़ हैं, वो ही मशअल – ए- महताब हैं ।
निस्बत में हमारे बेतहाशा मसाफत है …
उन्स है उनसे, लेकिन जीवन में वस्ल नहीं,
कुछ इस तरह की हमारी मोहब्बत है।
काग़ज भी शब्दों के भार से नम है…
हाथ छूट गए, यादें अभी भी कायम है,
ज़िंदगी का ये सबब है…
यादों के दरिया में बह रहे हैं हम,
ढाये कुछ इस कदर ज़िंदगी ने हम पर सितम हैं।।।
* मुसाहिब- साथी
* उल्फ़त- प्रेम
* तब्बसुम- मुस्कान
*इनायत- मेहरबानी
* फ़ुर्क़त- विरह
*अदावत- नफ़रत
* हिकायत- कहानी
*आफ़ाक़- दुनिया
*मशअल – ए- महताब- उज्जवल चाँद
*निस्बत- संबंध
*मसाफत- दूरी
* उन्स- लगाव
*वस्ल- मिलन
– ज्योति खारी

5 Likes · 2 Comments · 447 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लघुकथा - घर का उजाला
लघुकथा - घर का उजाला
अशोक कुमार ढोरिया
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
24/254. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/254. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते  कहीं वे और है
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते कहीं वे और है
DrLakshman Jha Parimal
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
■ तेवरी-
■ तेवरी-
*प्रणय प्रभात*
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
कैसे- कैसे नींद में,
कैसे- कैसे नींद में,
sushil sarna
"देश-धरम"
Dr. Kishan tandon kranti
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पेड़ पौधे से लगाव
पेड़ पौधे से लगाव
शेखर सिंह
बहुत हुए इम्तिहान मेरे
बहुत हुए इम्तिहान मेरे
VINOD CHAUHAN
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Chahat
Why always me!
Why always me!
Bidyadhar Mantry
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
عبادت کون کرتا ہے
عبادت کون کرتا ہے
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष भी एक खुशी है
संघर्ष भी एक खुशी है
gurudeenverma198
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
आकाश के सितारों के साथ हैं
आकाश के सितारों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
Loading...