Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

जीवन के पल दो चार

जीवन के पल दो चार,
कुछ तो हंस लेउ गुजlर!!
बाकी तो फिर रोना है,
सुबह शाम को ढोना है!!
जीवन से ना हो बेजार!
जीवन के पल दो चार!!
कभी-कभी कोई तो पूछे,
और कहो कैसे हो यार?
जीवन के पल दो चार!!
बीते दिन खेल खिलौने के!
औ सजाए स्वप्न सलौने के!!
मंजिल से अब भी बेजार!
जीवन के पल दो चार!!
बचपन,किशोर,गृहस्थ बीते!
फिर भी कुम्भ धरे है रीते!!
वानप्रस्थ मे भजन हजार!
जीवन के पल दो चार!!
सन्यास अभी भी बाकी!
न मयखाना ना साकी!!
तेरी ठठरी खडी है द्वार!
जीवन के पल दो चार!!

सर्वाधिकार सुरछित मौलिक रचना
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुजं फेस-2″सिकंदरा,आगरा-282007
मो:9412443093

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
2569.पूर्णिका
2569.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
जब अपने सामने आते हैं तो
जब अपने सामने आते हैं तो
Harminder Kaur
“पहाड़ी झरना”
“पहाड़ी झरना”
Awadhesh Kumar Singh
खिन्न हृदय
खिन्न हृदय
Dr.Pratibha Prakash
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मान भी जाओ
मान भी जाओ
Mahesh Tiwari 'Ayan'
हिचकियां
हिचकियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
"प्रेम कर तू"
Dr. Kishan tandon kranti
शाबाश चंद्रयान-३
शाबाश चंद्रयान-३
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
Sarfaraz Ahmed Aasee
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
*Author प्रणय प्रभात*
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
डियर कामरेड्स
डियर कामरेड्स
Shekhar Chandra Mitra
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
🍃🌾🌾
🍃🌾🌾
Manoj Kushwaha PS
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
कांटों में क्यूं पनाह दी
कांटों में क्यूं पनाह दी
Surinder blackpen
Loading...