Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2018 · 1 min read

जीवन की सच्चाईयां -आर के रस्तोगी

प्यार के पत्ते जब झड़ जाते है,पतझड़ आ जाता है जीवन में
शरीर के अंग जब थक जाते है,बुढ़ापा आ जाता है जीवन में

ह्रदय तोड़ दे जब कोई तुम्हारा,नीरसता आ जाती है जीवन में
पास न हो जब प्रियतम तुम्हारा,विरहता आ जाती है जीवन में

मिलन हो जाये जब दो दिलो का,खुशियां आ जाती है जीवन में
अपना ही जब कोई धोखा दे जाये,ग्लानि आ जाती है जीवन में

अपने ही जब तिरस्कार करे तुम्हारा,निराशा आ जाती है जीवन में
मन जब मिल जाये किसी से तुम्हारा,आशा आ जाती है जीवन में

राम का नाम जब जपने लगो तुम,भक्ति आ जाती है जीवन में
देने लगे जब कोई सहारा तुमको,शक्ति आ जाती है जीवन में

इच्छाये जब पूरी हो जाये तुम्हारी,विरक्ती आ जाती है जीवन में
उन्नति के पथ पर जब बढने लगो,जाग्रति आ जाती है जीवन में

मन का मीत का मिल जाये तुमको,खुशिया आ जाती है जीवन में
मन का मीत जब बिछड़ जाये तुमसे,सब बदल जाता है जीवन में

संतोष धन जब मिल जाये तुमको,शान्ति आ जाती है जीवन में
अन्याय करे जब कोई साथ तुम्हारे,क्रान्ति आ जाती है जीवन में

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

308 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
इसी साहस की बात मैं हमेशा करता हूं।।
इसी साहस की बात मैं हमेशा करता हूं।।
पूर्वार्थ
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
चमचा चरित्र.....
चमचा चरित्र.....
Awadhesh Kumar Singh
पिता
पिता
Dr. Rajeev Jain
महाराष्ट्र में शरद पवार और अजित पवार, बिहार में नीतीश कुमार
महाराष्ट्र में शरद पवार और अजित पवार, बिहार में नीतीश कुमार
*प्रणय प्रभात*
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
Rj Anand Prajapati
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3277.*पूर्णिका*
3277.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
कह गया
कह गया
sushil sarna
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
Madhuyanka Raj
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
ज़िंदगी इसमें
ज़िंदगी इसमें
Dr fauzia Naseem shad
दोहा-सुराज
दोहा-सुराज
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हवा चल रही
हवा चल रही
surenderpal vaidya
बेवफ़ाई
बेवफ़ाई
Dipak Kumar "Girja"
मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों
मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों
Shweta Soni
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
मेरी चाहत रही..
मेरी चाहत रही..
हिमांशु Kulshrestha
...........!
...........!
शेखर सिंह
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
होली
होली
Mukesh Kumar Sonkar
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पूरी ज़वानी संघर्षों में ही गुजार दी मैंने,
पूरी ज़वानी संघर्षों में ही गुजार दी मैंने,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
वो आये और देख कर जाने लगे
वो आये और देख कर जाने लगे
Surinder blackpen
इश्क़ कमा कर लाए थे...💐
इश्क़ कमा कर लाए थे...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...