Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2016 · 1 min read

“जीवन की परिभाषा”

जीवन की परिभाषा ,
धुमिल होती जाती है |
अधियारा उजाले पर ,
हर पल छाता जाता है|
कोई करे उद्धार हमारा,
मानव निश दिन खोता जाता है |
स्वार्थ का तांडव ,
हर दिशा दिखाई देता है |
आदर्शों की शिक्षा,
व्यर्थ दिखाई देती है |
जीवन की परिभाषा ,
धुमिल होती जाती है|
सत्कर्मो से दूरी ,
हर क्षण बढती जाती है|
सिद्धांतहीन जीवन ,
हर तरफ दिखाई देता है |
फूलों को अब ,
काँटो सी चुभन होती है |
कलियों को अब,
हर पल विपद्द दिखाई देती है|
जीवन की परिभाषा ,
धुमिल होती जाती है |

…निधि…

Language: Hindi
512 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा0 निधि श्रीवास्तव "सरोद"
View all
You may also like:
बर्फ के टीलों से घर बनाने निकले हैं,
बर्फ के टीलों से घर बनाने निकले हैं,
कवि दीपक बवेजा
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
त्याग
त्याग
मनोज कर्ण
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हे माधव हे गोविन्द
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
संत गाडगे सिध्दांत
संत गाडगे सिध्दांत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
2887.*पूर्णिका*
2887.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
व्हाट्सएप के दोस्त
व्हाट्सएप के दोस्त
DrLakshman Jha Parimal
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कुछ सवाल
कुछ सवाल
manu sweta sweta
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
जब जब जिंदगी में  अंधेरे आते हैं,
जब जब जिंदगी में अंधेरे आते हैं,
Dr.S.P. Gautam
जिंदगी एक सफर
जिंदगी एक सफर
Neeraj Agarwal
#तार्किक_तथ्य
#तार्किक_तथ्य
*Author प्रणय प्रभात*
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा"
Vijay kumar Pandey
क़ब्र में किवाड़
क़ब्र में किवाड़
Shekhar Chandra Mitra
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
हर किसी के पास हो घर
हर किसी के पास हो घर
gurudeenverma198
पिता आदर्श नायक हमारे
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
Loading...