Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

जीवन की परिभाषा क्या ?

जीवन किसको कहते हैं,
जीवन की परिभाषा क्या ?
बिन मानवता भाव के,
मानव की परिभाषा क्या ?
एक है प्रश्न एक है उत्तर,
ईश्वर की परिभाषा क्या ?
जीवन की वास्तविकता में,
मृत्यु की परिभाषा क्या ?
तू भी मानव में भी मानव,
अंतर की परिभाषा क्या ?
तू भी उसका मैं भी उसका,,
घृणा की परिभाषा क्या ?
नैतिकता के मापदंड में,
मूल्यों की परिभाषा क्या ?
घेर के बस मार गिराओ,
भीड़ की है परिभाषा क्या ?
डाॅ फौज़िया नसीम शाद.

11 Likes · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
■ कैसे भी पढ़ लो...
■ कैसे भी पढ़ लो...
*Author प्रणय प्रभात*
संगदिल
संगदिल
Aman Sinha
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मुझे पता है।
मुझे पता है।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
"फ़ानी दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
24/239. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/239. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
सफर में हमसफ़र
सफर में हमसफ़र
Atul "Krishn"
हम सनातन वाले हैं
हम सनातन वाले हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
लक्ष्य एक होता है,
लक्ष्य एक होता है,
नेताम आर सी
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
Anamika Tiwari 'annpurna '
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
Rj Anand Prajapati
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
manjula chauhan
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
शेखर सिंह
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
gurudeenverma198
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
Harminder Kaur
Loading...