Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2023 · 1 min read

जीवन का जीवन

जीवन का जीवन पर
तेरे ये भी उपकार हो ।

केवल सफलता ही नहीं
हार भी स्वीकार हो ।।

वाणी तेरी मीठी-मीठी
उच्य तेरे विचार हो ।

मित्र बने शत्रु भी तेरे
ऐसा तेरा व्यवहार हो ।।

तेरी प्रतिष्ठा तेरा गौरव
जीवन का पर्याय हो ।

जाग उठे आत्मा तेरी
ऐसी एक ललकार हो ।।

कर दूं तुझे आत्मा ही नहीं
हर श्वास समर्पित ।

मेरा तुझपर मेरे प्रिय
इतना तो अधिकार हो ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

6 Likes · 177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सुन लो मंगल कामनायें
सुन लो मंगल कामनायें
Buddha Prakash
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
नफरतों को भी
नफरतों को भी
Dr fauzia Naseem shad
लगाव का चिराग बुझता नहीं
लगाव का चिराग बुझता नहीं
Seema gupta,Alwar
"छलनी"
Dr. Kishan tandon kranti
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
क्या कहे हम तुमको
क्या कहे हम तुमको
gurudeenverma198
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
डॉक्टर रागिनी
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
लक्ष्मी सिंह
■ कटाक्ष
■ कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
💐प्रेम कौतुक-347💐
💐प्रेम कौतुक-347💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
रोशनी की भीख
रोशनी की भीख
Shekhar Chandra Mitra
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
जीवन चक्र
जीवन चक्र
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
*चले जब देश में अनगिन, लिए चरखा पहन खादी (मुक्तक)*
*चले जब देश में अनगिन, लिए चरखा पहन खादी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
*अहंकार*
*अहंकार*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
Vishal babu (vishu)
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
गांव और वसंत
गांव और वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Sukoon
Loading...