Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

जीवनमंथन

मैं कौन हूं ? कहां से आया था? कहां जाना है?

इन सबसे अनिभिज्ञ कुछ पाकर खुश होता, कुछ खोकर दुःखी होता,

अपने अहं में डूबा हुआ भ्रम टूटने पर
कुंठाग्रस्त होता,

आसक्ति एवं विरक्ति के चक्र में उलझता ,
प्रेम और द्वेष के द्वंद मे भटकता ,

आशा और निराशा के बादलों में विचरण करता,
सत्य और मिथ्या के संदर्भ ढूंढ़ता ,

आत्मवंचना और ग्लानि के भंवर मे डूबता, उबरता,
अज्ञान और संज्ञान के अंतर को स्पष्ट करता,

आत्मज्ञान और आत्ममंथन को बाध्य होता,
विश्वास और छद्मविश्वास से प्रभावित होता,

ज्ञान और प्रज्ञाशक्ति से समस्याओं के हल खोजता,
नियम और व्यावहारिकता की उपयोगिता को जानता,

तत्वज्ञान और आध्यात्म से प्रेरित होता ,
सार्थक जीवन और वैराग्य के महत्व को समझता,

एक असीम अनंत यात्रा का पथिक बना हुआ,

आत्मा और परमात्मा के शून्य में विलय के लिए,
एक महाप्रयाण को शनैःशनैः अग्रसर होता हुआ।

Language: Hindi
113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
छोटी कहानी -
छोटी कहानी - "पानी और आसमान"
Dr Tabassum Jahan
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुस्कान
मुस्कान
Neeraj Agarwal
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
Manoj Mahato
नया साल
नया साल
Dr fauzia Naseem shad
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिसे तुम ढूंढती हो
जिसे तुम ढूंढती हो
Basant Bhagawan Roy
Kbhi Karib aake to dekho
Kbhi Karib aake to dekho
Sakshi Tripathi
नारी का क्रोध
नारी का क्रोध
लक्ष्मी सिंह
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
"मां की ममता"
Pushpraj Anant
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
गुमनाम 'बाबा'
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
#मौसनी_मसखरी
#मौसनी_मसखरी
*Author प्रणय प्रभात*
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
भारत में सबसे बड़ा व्यापार धर्म का है
भारत में सबसे बड़ा व्यापार धर्म का है
शेखर सिंह
"लिख दो"
Dr. Kishan tandon kranti
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...