Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

जीने की वजह हो तुम

यह तन मन धन है अर्पित
लहू का कतरा कतरा समर्पित

दिन रात और सुबह हो तुम
मेरी जीने की वजह हो तुम।

तेरी किलकारी सुनकर ही,
जिंदगी का सफर तय की।

खुशियों से भरे पल हो तुम,
मेरे जीने की वजह हो तुम।

तेरी तोतली बोली की मिठास ,
हिर्दय की फुलवारी महकाए।

हंसती मुस्कुराती कमल हो तुम,
मेरे जीने की वजह हो तुम।

आने ना दूंगी कोई मुसीबत ,
परछाई बनकर रहती हूं मैं ।

मेरे तो सुंदर गजल हो तुम ,
मेरे जीने की वजह हो तुम।

1 Like · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आहट बता गयी
आहट बता गयी
भरत कुमार सोलंकी
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
-- नफरत है तो है --
-- नफरत है तो है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
Pramila sultan
श्रमिक
श्रमिक
Neelam Sharma
एक लेख...…..बेटी के साथ
एक लेख...…..बेटी के साथ
Neeraj Agarwal
क्या हूनर क्या  गजब अदाकारी है ।
क्या हूनर क्या गजब अदाकारी है ।
Ashwini sharma
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
एक आंसू
एक आंसू
Surinder blackpen
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
*देखा यदि जाए तो सच ही, हर समय अंत में जीता है(राधेश्यामी छं
*देखा यदि जाए तो सच ही, हर समय अंत में जीता है(राधेश्यामी छं
Ravi Prakash
3654.💐 *पूर्णिका* 💐
3654.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
विश्वास करो
विश्वास करो
TARAN VERMA
लंका दहन
लंका दहन
Paras Nath Jha
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
*चारों और मतलबी लोग है*
*चारों और मतलबी लोग है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...