Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2022 · 1 min read

“ जीने का अंदाज़ “

डॉ लक्ष्मण झा परिमल

===================

जीना मैं

चाहता हूँ

कुछ करना

मैं चाहता हूँ

नयी जिंदगी

के अंदाज़ को

अपने में

उतरना चाहता हूँ

कभी अपनी

कविता से

अटखेलियाँ

करता रहता हूँ

सत्यम ,शिवम और सुंदरम

के गीतों को

गुनगुनाता हूँ

कला के प्रदर्शन में

मैं कभी पीछे

नहीं हटता हूँ

कला कोई

देखे या ना देखे

कलाबाज़ी

रोज़ मैं करता हूँ

नारी उत्पीड़न ,

सामाजिक विषमता

का उल्लेख

लेखनी में करता हूँ

धार्मिक असहिष्णुता ,

बेरोजगारी और भूखमरी

के खिलाफ

सदा लड़ता हूँ

जब तक मैं

इस रंगमंच हूँ

आपका मनोरंजन

करता रहूँगा

अपनी सजगता

और शालीनता का

मंत्र सदा पढ़ता रहूँगा !!

=================

डॉ लक्ष्मण झा परिमल

साउन्ड हेल्थ क्लिनिक

एस पी कॉलेज रोड

दुमका

झारखंड

भारत

26.12.2022.

Language: Hindi
1 Like · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनुसंधान
अनुसंधान
AJAY AMITABH SUMAN
*जग से जाने वालों का धन, धरा यहीं रह जाता है (हिंदी गजल)*
*जग से जाने वालों का धन, धरा यहीं रह जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
किन्नर-व्यथा ...
किन्नर-व्यथा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
Amit Pandey
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रभु राम अवध वापस आये।
प्रभु राम अवध वापस आये।
Kuldeep mishra (KD)
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
वयम् संयम
वयम् संयम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
💐अज्ञात के प्रति-95💐
💐अज्ञात के प्रति-95💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
माँ
माँ
Anju
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
मां शैलपुत्री देवी
मां शैलपुत्री देवी
Harminder Kaur
शुभ दिवाली
शुभ दिवाली
umesh mehra
"मयकश बनके"
Dr. Kishan tandon kranti
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
Ms.Ankit Halke jha
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
Dr Archana Gupta
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
Loading...