Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

“जीत की कीमत”

“जीत की कीमत”
हॉं, कई बार हँस देता हूँ
अपनी ही हार पर,
और कभी हँस देता हूँ
हार के कगार पर।
दरअसल मुझे पता है
मेरी जीत की कीमत
मेरी मुस्कुराहट में नहीं है।

3 Likes · 3 Comments · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
Rj Anand Prajapati
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
बिटिया और धरती
बिटिया और धरती
Surinder blackpen
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
अरे योगी तूने क्या किया ?
अरे योगी तूने क्या किया ?
Mukta Rashmi
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
'I love the town, where I grew..'
'I love the town, where I grew..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
DrLakshman Jha Parimal
दोहा पंचक. . . .
दोहा पंचक. . . .
sushil sarna
"वीक-एंड" के चक्कर में
*Author प्रणय प्रभात*
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
Phool gufran
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
दुष्यन्त 'बाबा'
★मृदा में मेरी आस ★
★मृदा में मेरी आस ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
Jogendar singh
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
Satish Srijan
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
वारिस हुई
वारिस हुई
Dinesh Kumar Gangwar
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
Loading...