Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है

जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
उस देश में चौकीदार बनकर चोरी करना
ये कोई आश्चर्य की बात नहीं है
🤔🤔🤔

38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपना अपना कर्म
अपना अपना कर्म
Mangilal 713
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
3202.*पूर्णिका*
3202.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुरसरि-सा निर्मल बहे, कर ले मन में गेह।
सुरसरि-सा निर्मल बहे, कर ले मन में गेह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
Madhuyanka Raj
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
दोहा पंचक. . . क्रोध
दोहा पंचक. . . क्रोध
sushil sarna
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
दिल से
दिल से
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
Dheeru bhai berang
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
शेखर सिंह
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
*Author प्रणय प्रभात*
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
पिया बिन सावन की बात क्या करें
पिया बिन सावन की बात क्या करें
Devesh Bharadwaj
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
अनिल "आदर्श"
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
"तलाशिए"
Dr. Kishan tandon kranti
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
मां महागौरी
मां महागौरी
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...