Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

जिसे तुम ढूंढती हो

वो नजारा हु मै वो इशारा हु मै, जिसे तुम ढूंढती हो
वो चमकता हुआ, सितारा हु मैं जिसे तुम ढूंढती हो ।

प्यास जब भी लगी गर तुझे तो, छाँक भर पानी ले रखूंगा
याद जब भी करोगी मुझे तो, तेरे सामने हर घड़ी मैं रहूंगा
एक समंदर का वो किनारा हु मै, जिसे तुम ढूंढती हो।

तुम धूप में निकलती हो जब, छाया तेरा बनके मैं घूमता हु
छलकने ना दू तेरी नूर को,अपने अधारो से जां पीया करता हु
तेरी हर पल का गुजारा हु मैं, जिसे तुम ढूंढती हो।

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
1 Like · 368 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
.
.
*प्रणय प्रभात*
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
वक़्त है तू
वक़्त है तू
Dr fauzia Naseem shad
मईया एक सहारा
मईया एक सहारा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौन
मौन
लक्ष्मी सिंह
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
रपटा घाट मंडला
रपटा घाट मंडला
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
खोज करो तुम मन के अंदर
खोज करो तुम मन के अंदर
Buddha Prakash
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पनघट
पनघट
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
बिना वजह जब हो ख़ुशी, दुवा करे प्रिय नेक।
बिना वजह जब हो ख़ुशी, दुवा करे प्रिय नेक।
आर.एस. 'प्रीतम'
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
फ्राॅड की कमाई
फ्राॅड की कमाई
Punam Pande
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
"चुनौतियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
Loading...