Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

जिसे चाहा दिल से पूजा

कोमल सा नाजुक दिल में,
तन्हाई की खंजर चुभा है।
यादो कइ गहरा समुन्दर में,
मेरा दिल डूबा है।

वो तितली दूर उड़ चली,
दिल की उपवन उजड़ा है।
न मधु-माह न सावन,
ज़िन्दगी की हर दिन खज़ा है।

चाहत का चाँद डूब गया ,
खुशियाँ ज़िन्दगी से छूमंतर है
प्यार की शमा बुझ गई,
ज़िन्दगी मेरा अँधेरा है।

इश्क की महल ढह गई,
जहा सारा मेरा खंडहर है।
सफर ज़िंदगी की कठिन हुआ,
अब हर राह जर्जर है।

उम्मीद का शाम ढल गया,
आँखे सुबह शाम तर है।
जिसे चाहा दिल से पूजा
वो किसी गैर का है।

बाँवरा मन दिल आवारा है
सूना जहां मेरा सारा है।
सोच के हैंरा हूँ मै,
ऐसी ज़िन्दगी का नज़ारा है।

Language: Hindi
542 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
खत
खत
Punam Pande
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुआ नहीं होना
दुआ नहीं होना
Dr fauzia Naseem shad
अधीर मन
अधीर मन
manisha
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चल विजय पथ
चल विजय पथ
Satish Srijan
गुलदस्ता नहीं
गुलदस्ता नहीं
Mahendra Narayan
2883.*पूर्णिका*
2883.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
*धन्य अयोध्या जहॉं पधारे, पुरुषोत्तम भगवान हैं (हिंदी गजल)*
*धन्य अयोध्या जहॉं पधारे, पुरुषोत्तम भगवान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
आर.एस. 'प्रीतम'
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*Author प्रणय प्रभात*
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
तुम्हें
तुम्हें
Dr.Pratibha Prakash
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...