Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

जिसे चाहा दिल से पूजा

कोमल सा नाजुक दिल में,
तन्हाई की खंजर चुभा है।
यादो कइ गहरा समुन्दर में,
मेरा दिल डूबा है।

वो तितली दूर उड़ चली,
दिल की उपवन उजड़ा है।
न मधु-माह न सावन,
ज़िन्दगी की हर दिन खज़ा है।

चाहत का चाँद डूब गया ,
खुशियाँ ज़िन्दगी से छूमंतर है
प्यार की शमा बुझ गई,
ज़िन्दगी मेरा अँधेरा है।

इश्क की महल ढह गई,
जहा सारा मेरा खंडहर है।
सफर ज़िंदगी की कठिन हुआ,
अब हर राह जर्जर है।

उम्मीद का शाम ढल गया,
आँखे सुबह शाम तर है।
जिसे चाहा दिल से पूजा
वो किसी गैर का है।

बाँवरा मन दिल आवारा है
सूना जहां मेरा सारा है।
सोच के हैंरा हूँ मै,
ऐसी ज़िन्दगी का नज़ारा है।

Language: Hindi
Tag: कविता
380 Views
You may also like:
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
अगर तुम प्यार करते हो तो हिम्मत क्यों नहीं करते।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
उम्मीदों का सूरज
Shoaib Khan
"लाड़ली रानू"
Dr Meenu Poonia
फिर जीवन पर धिक्कार मुझे
Ravi Yadav
प्रतिष्ठित मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
🌺🌸ग़नीमत रही मैं मिला नहीं तुमसे🌸🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये कुछ सवाल है
gurudeenverma198
कहानी,✍️✍️
Ray's Gupta
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Writing Challenge- समय (Time)
Sahityapedia
■ सामयिक सवाल /- दोषी आख़िर कौन...?
*Author प्रणय प्रभात*
Mohd Talib
Mohd Talib
✍️नशा और शौक✍️
'अशांत' शेखर
“ हम महान बनबाक लालसा मे सब सँ दूर भेल...
DrLakshman Jha Parimal
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
'समय का सदुपयोग'
Godambari Negi
यूं ही नहीं इंजीनियर कहलाते हैं
kumar Deepak "Mani"
विरासत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कीर्तन मंडली में तब्दील मीडिया
Shekhar Chandra Mitra
एक आओर ययाति(मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
बहार के दिन
shabina. Naaz
भारत रत्न डॉक्टर विश्वेश्वरैया अभियांत्रिकी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिंदी दिवस
Vandana Namdev
मंजिल का ना पता है।
Taj Mohammad
तुमने दिल का
Dr fauzia Naseem shad
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
Loading...