Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 1 min read

जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)

जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
—————————————————–
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच
हीरे की कीमत अलग ,अलग मूल्य का काँच
अलग मूल्य का काँच ,सत्य निर्भीक विचरता
सम्मुख चाहे काल , नहीं किंचित भी डरता
कहते रवि कविराय , भला हिम्मत है किसमें
ललकारे जो सत्य , लबालब शुचिता जिसमें
——————————————————
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
शेखर सिंह
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विदाई
विदाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मारी - मारी फिर रही ,अब तक थी बेकार (कुंडलिया)
मारी - मारी फिर रही ,अब तक थी बेकार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
ख़्वाब टूटा
ख़्वाब टूटा
Dr fauzia Naseem shad
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
के अब चराग़ भी शर्माते हैं देख तेरी सादगी को,
के अब चराग़ भी शर्माते हैं देख तेरी सादगी को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
मन होता है मेरा,
मन होता है मेरा,
Dr Tabassum Jahan
मुसाफिर
मुसाफिर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
जीवन
जीवन
Monika Verma
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...