Oct 6, 2016 · 1 min read

जिसके गुट में एकता…..: छंद कुण्डलिया

शाश्वत कुण्डलिया-

गुटबंदी में है बँटा, भारत राज समाज.
जिसके गुट में एकता, चले उसी का राज.
चले उसी का राज, वही सब पर हो भारी.
स्वार्थ, सेकुलर नीति, उसी से करती यारी.
नैतिकता ले आड़, सामने छल जयचंदी,
बनें सनातन एक, देशहित हो गुटबंदी..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

130 Views
You may also like:
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
"शौर्य"
Lohit Tamta
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
सलाम
Shriyansh Gupta
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...