Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

जिन्दगी शम्मा सी रोशन हो खुदाया मेरे

जिन्दगी शम्मा सी रोशन हो खुदाया मेरे

जिन्दगी शम्मा सी , रोशन हो खुदाया मेरे
जिन्दगी तेरी इबादत की, जुस्तजू हो खुदाया मेरे

शम्मा सी रोशन जिन्दगी , सबकी हो खुदाया मेरे
मुश्किलों से निजात जिन्दगी , सबकी हो खुदाया मेरे

पाक – साफ़ हों दिल से , सभी खुदाया मेरे
चारों पहर जुबां पर, नाम हो तेरा खुदाया मेरे

एक तेरे नाम से रोशन हों , ये दोनों जहां खुदाया मेरे
तेरे एहसास से खुशगंवार हों , ये दोनों जहां खुदाया मेरे

जहां से भी मैं गुजरूँ , तेरा एहसास हो खुदाया मेरे
गुंचा – गुंचा तेरे एहसास से , रूबरू हो खुदाया मेरे

नादानी जो हो जाये , माफ़ करना खुदाया मेरे
मैं साँसें ले रहा हूँ तो, एक तेरे दम से खुदाया मेरे

नसीब मेरा बने , तेरे करम से खुदाया मेरे
आशियाँ मेरा रोशन हो, तेरे करम से खुदाया मेरे

दो फूल मेरी भी झोली में , डाल दे खुदाया मेरे
शम्मा सी रोशन हो , जिन्दगी हमारी खुदाया मेरे

निराली है तेरी शान , तेरा करम हम पर हो खुदाया मेरे
पाक – साफ़ दामन हो मेरा , मेरा चिराग तुझसे रोशन हो खुदाया मेरे

जिन्दगी शम्मा सी , रोशन हो खुदाया मेरे
जिन्दगी तेरी इबादत की , जुस्तजू हो खुदाया मेरे

2 Likes · 108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
एक शेर
एक शेर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हवा
हवा
पीयूष धामी
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
शेर
शेर
Rajiv Vishal (Rohtasi)
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
दोहा मुक्तक
दोहा मुक्तक
sushil sarna
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आज का महाभारत 1
आज का महाभारत 1
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
अपना बिहार
अपना बिहार
AMRESH KUMAR VERMA
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
कवि रमेशराज
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
😊ख़ुद के हवाले से....
😊ख़ुद के हवाले से....
*Author प्रणय प्रभात*
काश तू मौन रहता
काश तू मौन रहता
Pratibha Kumari
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
Ravi Prakash
अपने ही हाथों
अपने ही हाथों
Dr fauzia Naseem shad
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
कवि दीपक बवेजा
फिर मिलेंगे
फिर मिलेंगे
साहित्य गौरव
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
Surinder blackpen
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
गांधी से परिचर्चा
गांधी से परिचर्चा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...