Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।

जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
क्या नर तेरी सभ्यता, क्या तेरे संस्कार।।

जब तक तन के साथ है, मैं-मेरा संबंध।
आत्म संग परमात्म का, कैसे हो अनुबंध।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
2 Likes · 485 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
"फोटोग्राफी"
Dr. Kishan tandon kranti
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
Rajendra Kushwaha
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
पूर्वार्थ
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
हमको तंहाई का
हमको तंहाई का
Dr fauzia Naseem shad
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
ज़िंदा हूं
ज़िंदा हूं
Sanjay ' शून्य'
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
■ स्वाद के छह रसों में एक रस
■ स्वाद के छह रसों में एक रस "कड़वा" भी है। जिसे सहज स्वीकारा
*Author प्रणय प्रभात*
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
Manisha Manjari
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
इश्क का तोता
इश्क का तोता
Neelam Sharma
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
Loading...