Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2016 · 1 min read

जिओ इस तरह तुम वतन के लिये

सितारे ज्यूँ चमकें गगन के लिये
जिओ इस तरह तुम वतन के लिये

न सम्मान इससे बड़ा और है
तिरंगा मिले जो कफ़न के लिये

मिला पाठ ये बालपन से हमें
झुकाना ये सर बस नमन के लिए

मिलाना गले है सभी धर्म को
हमें देश के ही अमन के लिए

कदम अपने आगे बढ़ाओ सभी
बुरी रीतियों के दमन के लिए

यही प्रार्थना अर्चना हम करें
मिले अपनी मिट्टी दफ़न के लिए
डॉ अर्चना गुप्ता

6 Comments · 289 Views
You may also like:
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कवित्त
Varun Singh Gautam
आस
लक्ष्मी सिंह
बढ़ते जाना है
surenderpal vaidya
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
जब जब परखा
shabina. Naaz
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
SHAMA PARVEEN
खड़े सभी इक साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*रामलीलाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
सम्मान
Saraswati Bajpai
मृगतृष्णा
मनोज कर्ण
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
गज़ल
Sunita Gupta
✍️एक तारा आसमाँ से टूटा था✍️
'अशांत' शेखर
My dear Mother.
Taj Mohammad
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बात किसी और नाम किसी और का
Anurag pandey
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
दुःखडा है सबका अपना अपना
gurudeenverma198
सुख़न का ख़ुदा
Shekhar Chandra Mitra
Loading...