Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2016 · 1 min read

जिओ इस तरह तुम वतन के लिये

सितारे ज्यूँ चमकें गगन के लिये
जिओ इस तरह तुम वतन के लिये

न सम्मान इससे बड़ा और है
तिरंगा मिले जो कफ़न के लिये

मिला पाठ ये बालपन से हमें
झुकाना ये सर बस नमन के लिए

मिलाना गले है सभी धर्म को
हमें देश के ही अमन के लिए

कदम अपने आगे बढ़ाओ सभी
बुरी रीतियों के दमन के लिए

यही प्रार्थना अर्चना हम करें
मिले अपनी मिट्टी दफ़न के लिए
डॉ अर्चना गुप्ता

6 Comments · 460 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
जब मैं परदेश जाऊं
जब मैं परदेश जाऊं
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-502💐
💐प्रेम कौतुक-502💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"आखिरी इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
■ सनातन विचार...
■ सनातन विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
Shubham Pandey (S P)
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अनूप अम्बर
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
याद आते हैं वो
याद आते हैं वो
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
घूँघट (घनाक्षरी)
घूँघट (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh Manu
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आपकी याद
आपकी याद
Dr fauzia Naseem shad
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
पूर्वार्थ
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
Rajesh Kumar Arjun
Loading...