Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2022 · 1 min read

जिंदगी तुमसे जीना सीखा

जज्बातों को रोक रोक कर
दिल पर काबू पाना सिखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।
छलके आंसू पोंछ पोंछकर
जाम गमों का पीना सिखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।
पथरीली जलती राहों पर
जल जलकर भी चलना सिखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।
जीवन की ठोकर खा खाकर
गिर गिर कर जरा संभलना सिखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।
नाउम्मीदी के आलम में भी
उम्मीद लगाना सिखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।
ख्वाबों की अर्थी को अपने
खुद कंधा देना सीखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।
बेहतर जीवन के चक्कर में
तनहा तनहा जीना सिखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।
उत्तम कुटुंब के लिए हमेशा
जितने बरस बिताना सिखा
मैंने तुमसे जीना सिखा ।।

अभिषेक पाण्डेय (Abhi)
१०/१०/२०२२

29 Likes · 17 Comments · 206 Views
You may also like:
"आधुनिकता का परछावा"
MSW Sunil SainiCENA
भुलाना हमारे वश में नहीं
भुलाना हमारे वश में नहीं
Shyam Singh Lodhi (LR)
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
Surinder blackpen
"■ दोहा / प्रकाश पर्व पर
*Author प्रणय प्रभात*
खुद को पुनः बनाना
खुद को पुनः बनाना
Kavita Chouhan
💐तेरे इश्क़ की ग्रेविटी कमजोर है💐
💐तेरे इश्क़ की ग्रेविटी कमजोर है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*नन्ही सी गौरीया*
*नन्ही सी गौरीया*
Shashi kala vyas
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
अक्षत और चूहों की बस्ती
अक्षत और चूहों की बस्ती
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
ज़रूरी था
ज़रूरी था
Shivkumar Bilagrami
कुड़माई (कुंडलिया)
कुड़माई (कुंडलिया)
Ravi Prakash
#गणतंत्र दिवस#
#गणतंत्र दिवस#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
About my first poem
About my first poem
ASHISH KUMAR SINGH
#आलिंगनदिवस
#आलिंगनदिवस
सत्य कुमार प्रेमी
बाबा नीब करौरी
बाबा नीब करौरी
Pravesh Shinde
फरेबी दुनिया की मतलब प्रस्दगी
फरेबी दुनिया की मतलब प्रस्दगी
Umender kumar
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नाविक तू घबराता क्यों है
नाविक तू घबराता क्यों है
Satish Srijan
हौसला-2
हौसला-2
डॉ. शिव लहरी
पल पल बदल रहा है
पल पल बदल रहा है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की लक़ीरें तक बाँट चली।
कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की...
Manisha Manjari
" निरोग योग "
Dr Meenu Poonia
दिवाली पर एक गरीब की इच्छा
दिवाली पर एक गरीब की इच्छा
Ram Krishan Rastogi
It is not necessary to be beautiful for beauty,
It is not necessary to be beautiful for beauty,
Sakshi Tripathi
स्वार्थ
स्वार्थ
Sushil chauhan
नौकरी
नौकरी
Buddha Prakash
सैफई रहा केन्द्र
सैफई रहा केन्द्र
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
है एक डोर
है एक डोर
Ranjana Verma
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
Shubham Pandey (S P)
आज भी
आज भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...