Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2021 · 2 min read

इंतजार से बेहतर है कोशिश करना

धीरूभाई अम्बानी किसी अर्जेंट मिटिगं करने जा रहे थे।

राह में एक भयंकर तूफ़ान आया , ड्राइवर ने अम्बानी से पूछा — अब हम क्या करें?

अम्बानी ने जवाब दिया — कार चलाते रहो.

तूफ़ान में कार चलाना बहुत ही मुश्किल हो रहा था, तूफ़ान और भयंकर होता जा रहा था. अब मैं क्या करू ? — ड्राइवर ने पुनः पूछा.

कार चलाते रहो. — अम्बानी ने पुनः कहा.

थोड़ा आगे जाने पर ड्राइवर ने देखा की राह में कई वाहन तूफ़ान की वजह से रुके हुए थे……

उसने फिर अम्बानी से कहा — मुझे कार रोक देनी चाहिए…….मैं मुश्किल से देख पा रहा हुं!!…….

यह भयंकर है और प्रत्येक ने अपना वाहन रोक दिया है…….

इस बार अम्बानी ने फिर निर्देशित किया — कार रोकना नहीं. बस चलाते रहो….

तूफ़ान ने बहुत ही भयंकर रूप धारण कर लिया था किन्तु ड्राइवर ने कार चलाना नहीं छोड़ा……….

और अचानक ही उसने देखा कि कुछ साफ़ दिखने लगा है………

कुछ किलो मीटर आगे जाने के पश्चात ड्राइवर ने देखा कि तूफ़ान थम गया और सूरज निकल आया……

अब अम्बानी ने कहा — अब तुम कार रोक सकते हो और बाहर आ सकते हो……..

चालक ने पूछा — पर अब क्यों?

अम्बानी ने कहा — जब तुम बाहर आओगे तो देखोगे कि जो राह में रुक गए थे, वे अभी भी तूफ़ान में फंसे हुए हैं…..

चूँकि तुमने कार चलाने का प्रयत्न नहीं छोड़ा, तुम तूफ़ान के बाहर हो……

यह किस्सा उन लोगों के लिए एक प्रमाण है जो कठिन समय से गुजर रहे हैं………

मजबूत से मजबूत इंसान भी प्रयास छोड़ देते हैं……..किन्तु प्रयास कभी भी छोड़ना नहीं चाहिए…….

निश्चित ही जिन्दगी के कठिन समय गुजर जायेंगे और सुबह के सूरज की भांति चमक आपके जीवन में पुनः आयेगी…….!!

ऐसा नहीं है की जिंदगी बहुत छोटी है। दरअसल हम जीना ही बहुत देर से शुरू करते हैं!!!

Language: Hindi
747 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पत्थर की अभिलाषा
पत्थर की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
Lines of day
Lines of day
Sampada
इश्क का इंसाफ़।
इश्क का इंसाफ़।
Taj Mohammad
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
Shiva Awasthi
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
"कैसा जमाना आया?"
Dr. Kishan tandon kranti
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
पूछूँगा मैं राम से,
पूछूँगा मैं राम से,
sushil sarna
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
जा रहा है
जा रहा है
Mahendra Narayan
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
श्रमिक
श्रमिक
Neelam Sharma
फासलों से
फासलों से
Dr fauzia Naseem shad
बचपन
बचपन
नूरफातिमा खातून नूरी
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
3157.*पूर्णिका*
3157.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जितनी शिद्दत से
जितनी शिद्दत से
*प्रणय प्रभात*
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...