Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

ज़िंदगी चलती है

ज़िंदगी चलती है,
एक धड़कन के वास्ते!!

घड़ियां चल रही है,
अपने समय के रास्ते!!

मुद्दतों बाद एक मुस्कान,
वो भी लाख शर्तों के साथ!!

ये प्यार ना होगा कम,
तेरे लिए, बस तेरे लिए!!

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
कवि रमेशराज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
*प्रणय प्रभात*
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
पुच्छल दोहा
पुच्छल दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
इक क़तरा की आस है
इक क़तरा की आस है
kumar Deepak "Mani"
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
जीवन में प्रकाश, जुगनू की तरह आया..
जीवन में प्रकाश, जुगनू की तरह आया..
Shweta Soni
लोकतंत्र का मंदिर
लोकतंत्र का मंदिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
"सफलता कुछ करने या कुछ पाने में नहीं बल्कि अपनी सम्भावनाओं क
पूर्वार्थ
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या आसमां और क्या जमीं है,
क्या आसमां और क्या जमीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
Gaurav Pathak
Loading...