Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2022 · 1 min read

*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत )

जिलाधिकारी रामपुर द्वारा आयोजित कविता प्रतियोगिता में मेरी रचना को आज दिनांक 9 मई 2020 को सराहनीय शब्द से प्रोत्साहित किया गया । आभारी हूँ। प्रतियोगिता में दी गई पंक्ति इस प्रकार थी:-
————————————————-
जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं
————————————————-
इसी को आधार बनाकर कविता आगे बढ़ाने थी । मैंने इस प्रकार लिखा:-
(1)
हम आँधियों में दीप को ,आओ जलाना सीख लें
अँधियार के भी बीच रह ,सूरज बुलाना सीख लें
जान लें हम रात के ,साम्राज्य में अमृत नहीं है
अस्त होकर भी उदय हो ,सूर्य का क्या व्रत नहीं है?
जीत उनके नाम समझो , निज शिथिलता टोकते हैं
जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं
.(2)
शत्रु से ताकत लगाकर ,कूदना रण में सही है
जो पराजित हो गया वह , यश कभी पाता नहीं है
धैर्य के हथियार ही से ,शत्रु बलशाली मरेगा
जीत उसको ही मिलेगी ,साँस जो अंतिम लड़ेगा
युग नया वह ही रचेंगे ,पीठ खुद की ठोकते हैं
जिंदगी को वह गढ़ेंगे , जो प्रलय को रोकते हैं
—————————————————-
रचयिता ,: रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 999761 5451

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हलमुखी छंद
हलमुखी छंद
Neelam Sharma
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Vandana Namdev
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
*Author प्रणय प्रभात*
पिनाक धनु को तोड़ कर,
पिनाक धनु को तोड़ कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मेरे मौलिक विचार
मेरे मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
Smriti Singh
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक -
मुक्तक -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
आत्म बोध की आत्मा महात्मा
आत्म बोध की आत्मा महात्मा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...