Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।

मुक्तक

जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
कब तलक आतंकवादी आग ये फैलाएंगे।
पाप का इक दिन घड़ा भर जाएगा तुम देखना,
ये कुकर्मी अपने ही कर्मों से मारे जाएंगे।
………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
|| तेवरी ||
|| तेवरी ||
कवि रमेशराज
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
Ram Krishan Rastogi
*छोटी होती अक्ल है, मोटी भैंस अपार * *(कुंडलिया)*
*छोटी होती अक्ल है, मोटी भैंस अपार * *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
किताब
किताब
Sûrëkhâ Rãthí
पतझड़ के दिन
पतझड़ के दिन
DESH RAJ
गर लिखने का सलीका चाहिए।
गर लिखने का सलीका चाहिए।
Dr. ADITYA BHARTI
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-161💐
💐प्रेम कौतुक-161💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत
भारत
नन्दलाल सुथार "राही"
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
राष्ट्रीय किसान दिवस
राष्ट्रीय किसान दिवस
Akash Yadav
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
2738. *पूर्णिका*
2738. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महफ़िल में गीत नहीं गाता
महफ़िल में गीत नहीं गाता
Satish Srijan
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
"अजीब रवायतें"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Sukoon
व्यक्तित्व की दुर्बलता
व्यक्तित्व की दुर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
कोई मंझधार में पड़ा है
कोई मंझधार में पड़ा है
VINOD CHAUHAN
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Harsh Malviya
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
रपटा घाट मंडला
रपटा घाट मंडला
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...