Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

*जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)*

जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)
_________________________
जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल
इसी तरह से चल रहा, क्रम यह सालों-साल
क्रम यह सालों-साल, चक्र का चलना जारी
चलते रहते सूर्य, देव का जग आभारी
कहते रवि कविराय, सनातन नित्य विधाता
अद्भुत है संसार, रूप-गुण कहा न जाता
————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 615 451

82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रात भर नींद की तलब न रही हम दोनों को,
रात भर नींद की तलब न रही हम दोनों को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"ऐ मितवा"
Dr. Kishan tandon kranti
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
Sonam Puneet Dubey
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
हाथ में खल्ली डस्टर
हाथ में खल्ली डस्टर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बहू और बेटी
बहू और बेटी
Mukesh Kumar Sonkar
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
🙅आज की बात🙅
🙅आज की बात🙅
*प्रणय प्रभात*
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*भगत सिंह हूँ फैन  सदा तेरी शराफत का*
*भगत सिंह हूँ फैन सदा तेरी शराफत का*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरे ख़त
तेरे ख़त
Surinder blackpen
याद हमारी बहुत आयेगी कल को
याद हमारी बहुत आयेगी कल को
gurudeenverma198
2519.पूर्णिका
2519.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
Shweta Soni
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
**
**"कोई गिला नहीं "
Dr Mukesh 'Aseemit'
पगली
पगली
Kanchan Khanna
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
Loading...