Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2019 · 1 min read

जाग की सुबह हो गयी

तू कहां खो गयी
तू जाग की सुबह हो गयी
प्रतीक शक्ति का
कहां अबला हो गयी

सब रास्ते तेरी तरफ
और हर रास्ते तेरी मंजिल की तरफ है
तू कंहा रास्ते मे भटक गयीं
जाग की सुबह हो गयी

विश्व को जन्म दिया
अब उससे क्यों घबराती है
तू ही नेतृत्वकर्ता है
कहाँ अनुयायी के अंधेरे में अटक गई
जाग की सुबह हो गयी

@आनंदश्री

Language: Hindi
213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क अमीरों का!
इश्क अमीरों का!
Sanjay ' शून्य'
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
जगदीश शर्मा सहज
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रोटी की ख़ातिर जीना जी
रोटी की ख़ातिर जीना जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ मुक्तक-
■ मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-491💐
💐प्रेम कौतुक-491💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सादगी मशहूर है हमारी,
सादगी मशहूर है हमारी,
Vishal babu (vishu)
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
शब्द : दो
शब्द : दो
abhishek rajak
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जहरीले धूप में (कविता )
जहरीले धूप में (कविता )
Ghanshyam Poddar
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"जी लो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
goutam shaw
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
Loading...