Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जाग की सुबह हो गयी

तू कहां खो गयी
तू जाग की सुबह हो गयी
प्रतीक शक्ति का
कहां अबला हो गयी

सब रास्ते तेरी तरफ
और हर रास्ते तेरी मंजिल की तरफ है
तू कंहा रास्ते मे भटक गयीं
जाग की सुबह हो गयी

विश्व को जन्म दिया
अब उससे क्यों घबराती है
तू ही नेतृत्वकर्ता है
कहाँ अनुयायी के अंधेरे में अटक गई
जाग की सुबह हो गयी

@आनंदश्री

140 Views
You may also like:
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
ज़िक्र तेरा
Dr fauzia Naseem shad
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
आदर्श पिता
Sahil
अरि ने अरि को
bhavishaya6t
आज नज़रे।
Taj Mohammad
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
ये हरियाली
Taran Singh Verma
कभी हम भी।
Taj Mohammad
दिन जल्दी से
नंदन पंडित
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
✍️मी फिनिक्स...!✍️
'अशांत' शेखर
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
बहार के दिन
shabina. Naaz
✍️गुनाह की सजा✍️
'अशांत' शेखर
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
चराग
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
जिन्दगी
Anamika Singh
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...