Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2022 · 2 min read

जागो।

देखो विघ्नों के बीच खड़ी है माता
जागो – जागो, अब जाग वीर हे भ्राता,
दुश्मन सीमा पर वह्नि प्रखर बरसाते
उठती लपटों में जलते और जलाते।

है ध्येय एक गुलशन में आग लगाना
सो रही मृत्यु को आकर त्वरित जगाना,
निर्दोषों के शोणित से रंगा वसन है
लोहित सरिता की धार, धरा व घन है।

इनमें न कहीं है दया – धर्म की धारा
मानस में अंतर्द्वन्द्व , नयन अंगारा,
मारे फिरते दुनिया के कलुष समेटे
बन सके न दायी बाप, किसी के बेटे।

शोलों के इनके शब्द ,अनल की भाषा
घातक आतंकों ने है इन्हें तराशा,
मानवता के तट पर से दूर खड़े हैं
आकण्ठ भरे पातक के पूर्ण घड़े हैं।

जीते बनकर आकाओं की कठपुतली
चेहरे पर अपने स्याह कालिमा पुत ली,
आतंकों के नित नये रंग में ढलके
मिलते कितने ही रूप यहाँ पर खल के।

आकर सीमा में विषधर है फुफकारा
लेकर जहरीले दंत , गरल की धारा,
जागो – जागो हे वीर दंत को तोड़ो
विष की धाराओं को पौरुष से मोड़ो।

निपटो उनसे जो करें पृष्ठ में खंजर
भारत में रहकर करें देश से संगर,
उन देशद्रोहियों को भी सबक सिखाना
बाहर के पहले घर की आग बुझाना।

कर दे धरती को लाल, रक्त से भर दे
माता के चरणों में अरि के सर धर दे,
गोले बरसाते हस्त हजारों काटो
नर – मुंडों से सारी धरती को पाटो।

दुश्मन गिरके जब तक निज हार न मानें
तेरी आँखों का बहता ज्वार न जानें,
फन को चरणों से होगा तुझे कुचलना
शोलों – अंगारों पर होगा नित चलना।

हिन्दू – मुस्लिम का भेद न यारों मानो
तू शूरवीर अपनी सत्ता पहचानो,
राणा प्रताप का रक्त तुम्हारी रग में
है कौन सहे तेरा प्रहार इस जग में!

हर द्वन्द्व छोड़ आपस के बनो सहारे
इस मातृभूमि के ही वंशज हैं सारे,
मंदिर – मस्जिद का वृथा तर्क, बँटवारा
है एक शक्ति जिसकी बहती शत – धारा।

कलह – फूट से देश नहीं चलता है
प्रतिशोधों का जब अनल जिगर जलता है,
अपने जब तक अपनों की कुटिया जारें
नित्य नई बनतीं दिल में दीवारें।

जब तक मानव अन्यायी के दर झुकता
दानव का बढ़ता क्रूर कदम न रुकता,
आलस्य बीच घिरके जब नर सोता है
सम्मान, धर्म, धन और धरा खोता है।

नत होने से सागर पथ कभी न देता
कलयुग, द्वापर, हो रामराज्य या त्रेता,
हे वीर उठा ले धनुष, दहकता शर है
बहती जिसकी रग आग बली वह नर है।

काँटों पर चल अरिजन से लड़ना होगा
धधके अंगारों से उर भरना होगा,
नयनों में उबले लहू, बहे चिनगारी
मरना ही है तो आज करो तैयारी।

निष्कंटक करना है भारत को जागो
विचलित करने वाले दुर्गुण सब त्यागो,
कह दो दुश्मन को वीर, बली हम आते
अस्त्रों – शस्त्रों के साथ ध्वजा फहराते।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
609 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
*जीवन-नौका चल रही, सदा-सदा अविराम(कुंडलिया)*
*जीवन-नौका चल रही, सदा-सदा अविराम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोस्तों की कमी
दोस्तों की कमी
Dr fauzia Naseem shad
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
शेखर सिंह
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बदलियां
बदलियां
surenderpal vaidya
जलाना था जिस चराग़ को वो जला ना पाया,
जलाना था जिस चराग़ को वो जला ना पाया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3285.*पूर्णिका*
3285.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
Shweta Soni
संवेदना(फूल)
संवेदना(फूल)
Dr. Vaishali Verma
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
जून की दोपहर
जून की दोपहर
Kanchan Khanna
— मैं सैनिक हूँ —
— मैं सैनिक हूँ —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
"सुन लो"
Dr. Kishan tandon kranti
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
Atul "Krishn"
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
🙅घनघोर विकास🙅
🙅घनघोर विकास🙅
*प्रणय प्रभात*
Loading...